रूद्राक्ष में अलौकिक गुण

Dr.R.B.Dhawan

रूद्राक्ष : आसाम, नेपाल और हिमालय के कई क्षेत्रों में उत्पन्न होने वाला एक सुपरिचित बीज है, जिसे पिरोकर मालाएं बनाई जाती हैं किन्तु इसके अलौकिक गुणों की जानकारी हर एक को नहीं है। जन सामान्य की धारणा है कि रूद्राक्ष पवित्र होता है इसलिए इसे पहनना चाहिए बस इससे अधिक जानने की चेष्टा कोई नहीं करता।

वस्तुतः रूद्राक्ष पवित्र तो होता ही है इसके अतिरिक्त रूद्राक्ष में अलौकिक गुण भी हैं इसके चुम्बकिय प्रभाव को तथा स्पर्ष-षक्ति को आधुनिक विज्ञानवेत्ता भी स्वीकार करते हैं यह रोग-षमन और अदृष्य बाधाओं के निवारण में अत्यंत प्रभावशाली होता है। स्वास्थ्य, शान्ति और श्री-समृद्धि देने में भी रूद्राक्ष का प्रभाव अद्वितीय है। रूद्राक्ष के खुरदरे बीज धारियाँ लिए होते हैं, इन धारियों की संख्या एक से ग्यारह तक पाई जाती है इन धारियों को ही ‘मुख’ कहते हैं।

मुख की संख्या के आधार पर रूद्राक्ष के गुण, प्रभाव और मूल्य में अन्तर होता है। एकमुखी रूद्राक्ष दुर्लभ होता है और दो से लेकर सातमुखी तक सरलता से मिल जाते हैं पर आठ से चौदह तक मुख वाले कदाचित ही मिल पाते हैं फिर 15 से 21 धारी वाले नितान्त दुर्लभ हैं सर्वसुलभ दाना पंचमुखी है, सामान्यतः प्रयास करने पर 2 से 13 मुखी तक के दाने भी मिल जाते हैं। इन सभी के अलग-अलग देवता हैं प्रत्येक दाने में धारियों के क्रम से उसके देवता की शक्ति समाहित रहती है और उसके धारक को उस देवता की कृपा सुलभ होती है। यों तो सभी रूद्राक्ष शिवजी को प्रिय हैं और उनमें से किसी को भी धारण करने से साधक शिव-कृपा का पात्र हो जाता है।

रूद्राक्ष का दाना अथवा माला जो भी सुलभ हो उसे गंगाजल या अन्य पवित्र जल से स्नान कराकर धूप-दीप से पूजन करें, पूजनोपरान्त ॐ नमः शिवाय मन्त्र का 1100 पाठ कर 108 मंत्र का हवन करना चाहिए तत्पष्चात् रूद्राक्ष को शिवलिंग से स्पर्ष कराकर उपरोक्त मंत्र जपते हुए पूर्व या उत्तर की और मुख करके धारण कर लेना चाहिए, धारण करने के पश्चात् हवन-कुण्ड की भस्म का तिलक लगाकर षिव-प्रतिमा को प्रणाम करें। इस विधि से धारण किया गया रूद्राक्ष निष्चित रूप से प्रभावशाली होता है यह रूद्राक्ष धारण करने की सरलतम पद्धति है।

वैसे समर्थ साधक रूद्राक्ष को पंचामृत से स्नान कराकर अष्टगन्ध अथवा पंचगन्ध से भी नहलायें फिर पूर्ववत् पूजा करके उसे सम्बन्धित मन्त्र विषेष का 1100 जाप कर 108 मंत्र का हवन करें तथा भस्म लेपन के पष्चात् शिव-प्रतिमा को प्रणाम कर धारण कर लें। धर्म शास्त्रों में एक-मुखी से लेकर चौदह मुखी तक रूद्राक्ष की धारण विधि एवं मंत्र महर्षियों ने निर्धारित किये हैं।

रूद्राक्ष की माला 108 मनकों की अधिक प्रभावशाली होती है जिसमें पंचमुखी का कम से कम एक दाना और शेष अन्य मुख वाले दाने हो सकते हैं। इसे बाहु या कण्ठ पर धारण करने से भी पूर्ण लाभ होता है। ये समस्त रूद्राक्ष व्यक्ति के शारीरिक, मानसिक एवं भौतिक कष्टों का शमन करके उसमें आस्था, शुचिता और देवत्व के भाव को जागृत करते हैं भूत-बाधा, अकाल-मृत्यु, आकस्मिक-दुर्घटना, मिर्गी, उन्माद, हृदय-रोग, रक्तचाप, आदि में रूद्राक्ष धारण करने से चमत्कारी लाभ दृष्टिगोचर होता है। रूद्राक्ष को लाल धागे में पिरोकर धारण करना चाहिए।

मेरे और लेख देखें :- rbdhawan@wordpress.com, astroguruji.in