2015 Diwali Muhurat ~ दीपावली के दिन महालक्ष्मी पूजन कब करें

दीपावली के दिन महालक्ष्मी पूजन कब करें?[Diwali Muhurat 2015]

2015 Diwali Muhurat
2015 Diwali Muhurat

इस वर्ष दीपावली(Diwali) 11 नवम्बर 2015 बुधवार है, इस दिन महालक्ष्मी का पूजन केवल स्थिर लग्न में ही सम्पन्न किया जाना चाहिये, क्योंकि हरएक मनुष्य की यही इच्छा होती है कि, लक्ष्मी को स्थिर रखना है। इस वर्ष अमावस्या की रात्रि को वृष और सिंह मात्र दो ही स्थिर लग्न आते हैं, अतः इन लग्न-मुहूर्त में ही लक्ष्मी पूजन सम्पन्न होना चाहिये।

दिल्ली के लिये
वृष लग्न दीपावली(diwali) के दिन सांयकाल 17 बज कर 42 मिनट से 19 बज कर 35 मिनट तक है, तथा सिंह लग्न मध्य रात्रि को 00 बज कर 12 मिनट से 02 बज कर 28 मिनट तक है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार इन दोनो लग्नों का यह समय दिल्ली प्रदेश के लिये है। अतः इस वर्ष दीपावली कि निशा रात्रि में एश्वर्यवाली जीवन, सफलता व उन्नति, सुख-समृद्धि के लिये शुभ दूसरा कोई मुहुर्त(muhurat) नहीं है। इस दुर्लभ तथा सिद्ध मुहूर्त में मां लक्ष्मी की पूजा करके कोई भी साधक दुर्लभ देवी शक्तियों का आशिर्वाद प्राप्त कर सकता है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार इस इस वर्ष(2015) वृष एवं सिंह लग्न के महालक्ष्मी पूजा मुहूर्त(Diwali Muhurat) की विशेषता यह है कि इस समय में वातावरण में अलौकिक सकारात्मक तथा समृद्धि प्रदान करने वाली ऊर्जा बहुतायत मात्रा में उपस्थित होगी। जिस समय में महालक्ष्मी की पूजा करके कोई भी मनुष्य सर्व भौतिक सुखों का साक्षात्कार कर सकता है। यह यह रहस्य हरकोई नहीं जानता। गुरू जी ने इस वर्ष महालक्ष्मी पूजा के लिये इसी विषेष महूर्त की गणना की है, इसी मुहूर्त में गुरूजी समृद्धि प्रदान करने वाले अनेक यंत्रों का निर्माण और अनेक यंत्रों की प्राण-प्रतिष्ठा भी करने का निश्चय किया है।