यातायात और ज्योतिष

यातायात का सम्बंध बिजनेस और ज्योतिष से-

Dr.R.B.Dhawan (editor – Aap ka Bhavishya), Top best astrologer in delhi

प्रत्येक देश के विकास में यातायात के साधनों का अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हमारा देश बहुत बड़ा है तथा आबादी भी अधिक है। केवल सरकारी यातातात के साधन रेल, बस, वायुयान आदि आवश्यकता पूरा नहीं कर सकते। अतः प्राईवेट यातायात सुविधाओं का भी महत्व बढ़ जाता है। इस व्यवसाय में धन भी अधिक प्राप्त होता है साथ ही देशवासियों को यातायात के सुविधा पूर्ण साधन भी उपलब्ध होते हैं एवं व्यवसायी को प्रतिष्ठा भी प्राप्त होती है तथा कई व्यक्तियों को रोजगार भी प्राप्त होता है। इस क्षेत्र में प्रत्येक व्यक्ति को सफलता प्राप्त नहीं हो सकती है। जब तक ग्रह योगों का सहयोग न हो। अब हम ज्योतिषीय आधार पर इस व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के योगों का विवरण निम्नानुसार प्रस्तुत कर रहे हैं:-

1. वाहन कारक शुक्र व्यवसाय एवं जनता कारक शनि, यात्रा कारक मंगल प्रेरित करने वाले ग्रह राहु यदि जन्म पत्रिका में बलवान हो तो ऐसा जातक वाहन से सम्बंधित व्यवसाय में रूचि रखने वाला होता है।

2. इस व्यवसाय से धन प्राप्त करने वालों की पत्रिका में शुक्र, शनि मंगल का सम्बंध लग्नेश, धनेश, लाभेश, कर्मेश आदि से किसी भी रूप में होना चाहिये।

3. यदि उच्च का शनि लाभ भाव में मंगल भाग्येश के साथ केन्द्र में लग्न के राहु से दृष्ट हो, कर्मेश बुध के साथ लाभेश शुक्र छठे स्थान में (06 भाव) बैठकर आवागमन के व्यवभाव (12 भाव) को दृष्ट करें, साथ ही उच्च के गुरू, चन्द्र के साथ अच्छी स्थिति में हो तो, ऐसा जातक जनता को आवागमन की सुविधा प्रदान कर इस व्यवसाय में अति सफल होता है।

4. जातक की कुण्डली में यदि शुक्र उच्चाभिलाषी होकर पराक्रम भाव में कुंभ राशि का होकर भाग्यभाव को देखे, जनता कारक चतुर्थ में लाभेश शनि के साथ जनता कारक शनि बैठे और दशम में बैठे लग्नेश व चतुर्थेश गुरू पर दृष्टि हो योग कारक मंगल पंचमेश होकर वाहन कारक शुक्र की राशि लाभ भाव में बैठे, दशमेश बुध, व्यवसाय कारक व धनेश शनि की राशि मकर में हो तथा इस पर लग्नेश गुरू की पंचम दृष्टि हो साथ ही भाग्येश सूर्य स्वयं गुरू की राशि धनु में लग्नगत हो, तो ऐसे जातक को आवागमन की सुविधा उपलब्ध कराने का व्यवसाय (वाहनों का) कर सफल होकर धन कमाता है।

5. लग्नेश स्वयं वाहन कारक शुक्र होकर कार्यक्षेत्र में व्यवसाय कारक शनि की राशि कुंभ में उच्चाभिलाषी हो, द्वितीय यंत्रिक कारक मंगल स्वग्रही लाभेश के साथ लाभ स्थान में राहु से दृष्ट हो, धनेश, पंचमेश व सुखेश भाग्य भाव में युक्ति करें, योग कारक शनि धनभाव में हो तो ऐसा जातक पुस्तैनी ट्रांसपोर्ट व्यवसाय को आगे बढ़ाते हुये अति सफल प्रतिष्ठित व धनाढ्य ट्रांसपोर्ट व्यवसायी होता है।

अब कुछ सफल यातायात व्यवसाय करने वाले जातकों की जन्म पत्रिकाओं का विवेचन करेंगे –

पत्रिका क्रमांक-1 एक पुस्तैनी ट्रांसपोर्ट व्यवसाय करने वाले जातक की है। पत्रिका में वाहन कारक उच्चाभिलाषी शुक्र लाभेश होकर पराक्रम भाव में बैठकर भाग्य भाव को दृष्टि द्वारा प्रभावित कर रहा है। द्वितीय यांत्रिक कारक मंगल वाहन कारक शुक्र की राशि तुला में लाभ भाव में होकर व्यापार कारक धनभाव में बैठे कर्मेश बुध को चैथी दृष्टि से प्रभावित कर रहा है।

1 लग्नेश व जनता भाव के स्वामी गुरू कर्मभाव में बैठकर जनता कारक धनेश शनि व राहु की युक्ति से परस्पर दृष्टि सम्बंध कर अच्छी स्थिति में है। लग्नेश गुरू की पंचम (5वीं) दृष्टि कर्मेश बुध और धन भाव में होकर दोनों को बल प्रदान कर रही है। भाग्येश सूर्य मित्र लग्न में बैठकर मनकारक चन्द्रमा के साथ परस्पर दृष्टि सम्बंध बना रहा है। नवांश में स्वनवांश के जनता कारक धनेश शनि के साथ कर्मेश व नवांश लग्न का स्वामी व्यापार कारक बुध बैठकर राहु की दृष्टि से प्रभावित है। वाहन कारक शुक्र वृश्चिक नवांश में होकर जनता कारक शनि व लग्नेश गुरू की दृष्टि से प्रभावित है। शुक्र यांत्रिक कारक मंगल के नक्षत्र में तथा कर्मेश बुध, भाग्येश सूर्य के नक्षत्र में होने आदि के कारणों से ही बने, सभी तरह से वाहन से सम्बंधित व्यवसाय के ग्रहयोगों से ही जातक जनता के आवागमन से जुड़े यातायात व्यवसाय से लाभ व यश अर्जित कर रहा है।

विवेचन कुंडली क्रमांक-2 यह एक उच्च स्तर के जनता के आवागमन से जुड़े यातायात से सम्बंधित व्यवसाय करने वाले धनाढ्य व्यवसायी की है। पत्रिका में वाहन कारक शुक्र लाभेश होकर व्यवसाय कारक कर्मेश बुध के साथ युति कर स्वगृही होकर बली है। यांत्रिक कारक मंगल भाग्येश सूर्य के साथ केन्द्र में युति, कर राहु जैसे ग्रह की परस्पर दृष्टि सम्बंध से प्रभावित होकर बैठा है। जनता भाव 04 का स्वामी लग्नेश गुरू उच्च का होकर गजकेसरी योग बनाते हुये जनता कारक धनेश शनि की दृष्टि से प्रभावित है उधर कर्मभाव में मंगल की चतुर्थ दृष्टि कर्मभाव को बल प्रदान कर रहा है। जनता कारक उच्च का शनि लाभ भाव में बैठकर लग्न और लग्न में बैठे प्रेरक राहु को दृष्टि द्वारा बल प्रदान कर रहा है। चन्द्र पत्रिका में लग्न में गजकेसरी योग है एवं वाहन कारक उच्च का शनि और प्रेरक राहु दृष्टि देकर बल प्रदान कर रहे हैं। कर्मेश मंगल धनेश सूर्य के साथ होकर राहु से परस्पर दृष्टि सम्बंध कर रहे हैं। नवांश में शुक्र व्यापार कारक बुध की राशि नवांश में होकर जनता कारक शनि की दृष्टि से प्रभावित होते हुये लग्न के भाग्येश एवं नवांश भाग्य भाव को दृष्टि द्वारा प्रभावित कर रहा है। पुनः नवांश में गजकेसरी योग निर्माण होकर व्यापार, कारक कर्मेश बुध इसी क्षेत्र के साथ है। जिसके कारण ही जातक जनता से सम्बंधित यातायात के व्यवसाय में यश धन एवं ख्याति अर्जित कर रहा है।

मेरे और लेख देखें :- rbdhawan.wordpress.com, astroguruji.in, shukracharya.com पर।