काल को जीतने का उपाय

काल को जीतने का उपाय देवी पार्वती ने कहा- प्रभु! काल से आकाश का भी नाश होता है। वह भयंकर काल बडा विकराल है। वह स्वर्ग का भी एक मात्र स्वामी है। आपने उसे दग्ध कर दिया था, परंतु अनेक प्रकार के स्त्रोतो द्वारा जब उसने आपकी स्तुति कि तब आप फिर संतुष्ट हो गये और वह काल पुनः अपनी प्रकृति को प्राप्त हुआ- पूर्णतः स्वस्थ हो गया। आपने उससे बातचीत में कहा- ‘‘काल! तुम सर्वत्र विचरोगे, किंतु लोग तुम्हें देख नहीं सकेंगे।’’

आप प्रभु की कृपादृष्टि होने और वर मिलने से वह काल जी उठा तथा उसका प्रभाव बहुत बढ़ गया। अतः महेश्वर! क्या यहां ऐसा कोई साधन है, जिससे वह काल को नष्ट किया जा सके? यदि हो तो मुझे बताईये; क्योकि आप योगियों में शिरोमणि और स्वतंत्र प्रभु हैं। आप परोपकार के लिये ही शरीर धारण करते हैं।

शिव बोले– देवी! श्रेष्ठ देवता, दैत्य, यक्ष, राक्षस, नाग और मनुश्य- किसी के द्वारा भी काल का नाश नहीं किया जा सकता; परंतु जो ध्यान परायण योगी है, वे शरीर धारी होने पर भी सुख पूर्वक काल को नष्ट कर देते हैं। वरारोहे! ये पंचभौतिक शरीर सदा उन भूतों के गुणों से युक्त होता है और उन्हीं में इसका लय होता है। मिट्टी की देह मिट्टी में ही मिल जाती है।

आकाश से वायु उत्पन्न होती है, वायु से तेज तत्व प्रकट होता है, तेज से जल का प्रकाट्य बताया गया है और जल से पृथ्वी का आविर्भाव होता है। पृथ्वी आदि भूत क्रमशः अपने कारण में लीन होते हैं। पृथ्वी के पांच, जल के चार, तेज के तीन और वायु के दो गुण होते हैं। आकाश का एकमात्र शब्द ही गुण है। पृथ्वी आदि में जो गुण बताये गये हैं, उनके नाम इस प्रकार हैं- शब्द, स्पर्श, रूप, रस और गंध। जब भूत अपने गुण को त्याग देता है, तब वह नष्ट हो जाता है और जब गुण को ग्रहण करता है, तब उसका प्रादुर्भाव हुआ बताया जाता है।

देवेश्वरी! इस प्रकार तुम पांचो भूतों के यथार्थ स्वरूप को समझो। देवी! इस कारण काल को जीतने की इच्छा वाले योगी को चाहिये की वे प्रतिदिन प्रयत्न पूर्वक अपने-अपने काल में उसके अंशभूत गुणों का चिंतन करे।

योगवेत्ता पुरूष को चाहिये कि सुखद आसन पर बैठकर विशुद्ध श्वास (प्राणायाम) द्वारा योगाम्यास करे। रात में जब सब लोग सो जायें, उस समय दीपक बुझाकर अंधकार में योगधारण करें। तर्जनी अंगुली से दोनो कानों को बंद करके दो घडी तक दबाये रखें। उस अवस्था में अग्निप्रेरित शब्द सुनाई देता है। इससे संध्या के बादका खाया हुआ अन्न क्षण भर में पच जाता है और सम्पूर्ण रोगों तथा ज्वर आदि बहुत से उपद्रवों का शीघ्र नाश कर देता है।

जो साधक प्रतिदिन इसी प्रकार दो घडी तक शब्द गृहण का साक्षात्कार करता है, वह मृत्यु तथा काम को जीतकर इस जगत में स्वछंद विचरता है और सर्वज्ञ एवं समदर्शी होकर सम्पूर्ण सिद्धियों को प्राप्त कर लेता है। जैसे आकाश में वर्षा से युक्त बादल गरजता है, उसी प्रकार उस शब्द को सुनकर योगी तत्काल संसार बंधन से मुक्त हो जाता है।

तदंतर योगियों द्वारा प्रतिदिन चिंतन किया जाता हुआ वह शब्द क्रमशः सूक्ष्म से सूक्ष्मतर हो जाता है। देवी! इस प्रकार मैने तुम्हें शब्द ब्रह्म के चिंतन का क्रम बताया है। जैसे ध्यान चाहने वाला पुरूष पुआलको छोड देता है, उसी तरह मोक्ष की इच्छा वाला योगी सारे बंधनों को त्याग देता है।

इस शब्द-ब्रह्म को पाकर भी जो दूसरी वस्तु की अभिलाषा करते हैं, वे मुक्के से आकाश को मारते और भूख-प्यास की कामना करते हैं। यह शब्द-ब्रह्म ही सुखद, मोक्ष का कारण, बाहर-भीतर के भेद से रहित, अविनाशी और स्मस्त उपाधियों से रहित परब्रह्म हैं। इसे जानकर मनुश्य मुक्त हो जाते हैं। जो लोग कालपाश से मोहित हो शब्दब्रह्म को नहीं जानते, वे पापी और कुबुद्धि मनुश्य मौत के फंदे में फंसे रहते हैं। मनुश्य तभी तक संसार में जन्म लेते हैं, जबतक सबके आश्रयभूत परम तत्व (परब्रह्म परमात्मा) की प्राप्ति नहीं होती।

परमतत्व का ज्ञान हो जाने पर मनुश्य जन्म मृत्यु के बंधन से मुक्त हो जाता है। निद्रा और आलस्य साधना का बहुत बड़ा विध्न है। इस शत्रु को यत्नपूर्वक जीतकर सुखद आसन पर आसीन हो प्रतिदिन शब्दब्रह्म का अभ्यास करना चाहिये। सौ वर्ष की अवस्था वाला वृद्ध पुरूष आजीवन इसका अभ्यास करे तो उसका शरीर रूपी स्तम्भ मृत्यु को जीतने वाला हो जाता है और उसे प्राणवायु की शक्ति को बढ़ाने वाला आरोग्य प्राप्त होता है।

वृद्ध पुरूष में भी शब्द ब्रह्म के अभ्यास से होने वाले लाभ का विश्वास देखा जाता है, फिर तरूण मनुश्य को इस साधना से पूर्ण लाभ हो, इसके लिये तो कहना ही क्या है। यह शब्द ब्रह्म न ओंकार है न मंत्र है, न बीज है, न अक्षर है। यह अनाहत्नाद (बिना आहत् के अथवा बिना बजाये ही प्रकट होने वाला शब्द) है। इसका उच्चारण किये बिना ही चिंतन होता है। यह शब्दब्रह्म परम कल्याणमय है। प्रिय! शुद्ध बुद्धि वाले पुरूष यत्न पूर्वक निरंतर इसका अनुसंधान करते हैं। अतः 9 प्रकार के शब्द बताये गये हैं। जिन्हें प्राणवेत्ता पुरूषों ने लक्षित किया है। मैं उन्हें प्रयत्न करके बता रहा हूँ। उन शब्दों को नाद्सिद्धि भी कहते हैं। वे शब्द क्रमशः इस प्रकार हैं-

घोष, कांस्य (झांझ आदि), शृंग (सिगा आदि), घंटा, वीणां आदि, बांसुरी, दुन्दु भी, शंख, नवां मेघ गर्जन- इन 9 प्रकार के शब्दों को त्याग कर तुंकार का अभ्यास करें। इस प्रकार सदा ही ध्यान करने वाले योगी पुण्य और पापों से लिप्त नहीं होते। देवी! योगाभ्यास के द्वारा सुनने का प्रयत्न करने पर भी जब योगी उन शब्दों को नहीं सुनता और अभ्यास करते-करते मरणासन्न हो जाता है, तब भी वह दिन-रात उस अभ्यास में ही लगा रहे। ऐसा करने से सात दिनों में वह शब्द प्रकट होता है, जो मृत्यु को जीतने वाला है। देवी! वह शब्द 9 प्रकार का है। उसका मैं यथार्थ रूप से वर्णन करता हूँ।

पहले तो घोषात्मक नाद् प्रकट होता है, जो आत्म शुद्धि का उत्कृष्ठ साधन है। वह उत्तम नाद् सब रोगों को हर लेने वाला तथा मन को वशीभूत करके अपनी और खींचने वाला है।

दूसरा कांस्य-नाद है, जो प्राणियों की गति को स्तम्भित् कर देता है। वह विष, भूत और ग्रह आदि सबको बांधता है- इसमें संशय नहीं है।

तीसरा श्रृग नाद् है, जो अभिचार से सम्बन्ध रखने वाला है। उसका शत्रु के उच्चाटन और मारण में नियोग एवं प्रयोग होता है।

चैथा घंटा नाद् है, जिसका साक्षात् परमेश्वर शिव उच्चारण करते हैं। वह नाद् सम्पूर्ण देवताओं को आकर्षित कर लेता है, फिर भूतल के मनुष्यों की तो बात ही क्या है। यक्षों और गंघर्वो की कन्यायें उस नाद् से आकर्षित हो योगी को उसकी इच्छा के अनुसार महासिद्धि प्रदान करती हैं तथा उसकी अन्य कामनायें भी पूर्ण करती हैं।

पांचवा नाद् वींणा है, जिसे योगी पुरूष ही सदा सुनते हैं। देवी! उस वींणा नाद् से दूर दर्शन की शक्ति प्राप्त होती है। वंशी नाद् का ध्यान करने वाले योगी को सम्पूर्ण तत्व प्राप्त हो जाता है।

दुंदुभी नाद् का चिंतन करने वाला साधक जरा और मृत्यु के कष्ट से छूट जाता है। देवेश्वरी्! शंख नाद् का अनुसंधान होने पर इच्छा अनुसार रूप धारण करने की शक्ति प्राप्त हो जाती है। मेघ नाद् के चिंतन से योगी को कभी विपत्ति का सामना नहीं करना पड़ता। वरानने! जो प्रतिदिन एकाग्र चित्त से ब्रह्म रूपी तुंकार का ध्यान करता है, उसके लिये कुछ भी असाध्य नहीं होता।

उसे मनोवांछित सिद्धि प्राप्त हो जाती है। वह सर्वज्ञ, सर्वदर्शी और इच्छानुसार रूपधारी होकर सर्वत्र विचरण करता है, कभी विकारों के वशीभूत नहीं होता। वह साक्षात् शिव ही है- इसमें संशय नहीं है। परमेश्वरी! इस प्रकार मैने तुम्हारे समक्ष शब्दब्रह्म के नवधा स्वरूप का पूर्णतया वर्णन किया है।

 

प्रचण्ड शक्ति है बगलामुखी

प्रचण्ड शक्ति है बगलामुखी  साधकों के लिये समस्त साधनाओं की कुंजी है ‘तंत्र’! सब सम्प्रदायों की सब प्रकार की साधना का गूढ़ रहस्य तंत्रशास्त्र में निहित है। तंत्र केवल शक्ति उपासना का ही प्रधान अवलम्बन नहीं है, वह सभी साधनाओं का एकमात्र आश्रय है इसमें स्थूलतम साधन प्रणाली से लेकर अति गुह्य मंत्रशास्त्र और अति गुह्यतर योग साधनादि के समस्त क्रिया कौशलों का सविस्तार वर्णन है। तंत्रान्तर्गत दार्शनिक तत्त्व भी कम सूक्ष्म नहीं हैं। हाँ, ये प्रचलित दर्शन शास्त्रों के समान जटिल भाष्य, टीका और विविध मतवाद द्वारा भायाक्रान्त या दुर्बोध्य नहीं है।

जिस प्रकार मनुश्य की प्रकृति सात्त्विक, राजसिक और तामसिक भेद से तीन प्रकार की होती है, उसी प्रकार तंत्र शास्त्र भी सात्त्विक, राजसिक और तामसिक भेद से तीन प्रकार का होता है, तथा इसकी साधना प्रणाली भी उसी प्रकार गुणभेद से तीन प्रकार की व्याख्यात होती है। जिसकी जैसी प्रकृति व रुचि हो, तदनुसार ही साधन पथ को ग्रहण कर साधन करने से वह जीवन को कृतकृत्य कर सकता है। शक्ति जिस प्रकार देव स्वभाव वा दैवीगुण युक्त जीवों की जननी रूपा हैं, उसी प्रकार वह असुर गुण युक्त अथवा असुरों की भी जननी है। इसी कारण असुर और देवता दोनों ही उनकी उपासना में प्रवृत्त होते हैं तथा दोनों ही अपने-अपने स्वभावानुसार उपासना की प्रणाली का अवलम्बन करते हैं, एवं उनका साधन फल भी साधना की प्रकृति के अनुसार ही होता है। इसी कारण शास्त्र दोनों प्रकार की साधन प्रणाली बतलाते हैं। यहां पाठकों को एक ऐसी प्रचण्ड शक्ति बगलामुखी की सरल और शास्त्रोक्त साधना पद्धति का उल्लेख किया जा रहा है जिस देवी का स्थान शक्ति के दस महाविद्या स्वरूपों में प्रमुख है, साधक शत्रु बाधा से मुक्ति चाहता हो अथवा कलह नाश तिरस्कार से छुटकारा या भय-मुक्ति चाहता हो तो इसके लिये बगलामुखी देवी की साधना से तीव्र कोई साधना नहीं है।

आज हम यह विशेष तांत्रोक्त सरल साधना पद्धति साधकों के लिये स्पष्ट कर रहे हैं, जो अत्यंत प्रचण्ड तथा गुह्यतम साधना पद्धति है। गुरू भक्ति में पूर्ण समर्पित साधक तथा गुरू पूजन करने वाले साधकों के लिए है, इस तीव्र साधना का आधार गुरू भक्ति ही है। प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन को ऐश्वर्यशाली बनकर आनन्द से जीना चाहता है, और यह आनन्द, ऐश्वर्य प्राप्त करनें के लिये निरन्तर इच्छा करता है, तथा प्रयत्न भी करता रहता है, परंतु क्या सब के साथ ऐसा ही होता है? इसका यही उत्तर मिलेगा, कि ऐसा संभव नहीं हो पाता, वास्तविक जीवन में तो कष्ट आते हैं, बार-बार बाधायें उपस्थित होती हैं। जीवन में चार बड़े भयंकर विष हैं, जिनके रहते जीवन में आनन्द आ ही नहीं सकता, ये चार विष हैं-

  1. शत्रु बाधा
  2. कलह
  3. तिरस्कार
  4. भय

वास्तव में शत्रु तो चैबीस घंटे आप पर सवार ही रहता है, मित्र से तो आप कभी-कभी मिलते हैं। यदि आप का भी कोई शत्रु बन गया है तो आप का चिन्तन हर समय उसकी ओर ही रहेगा। आपका विचार प्रवाह पहले की तरह न रहकर बदल जायेगा। आप हर समय आशंकित रहेंगे और सोचने लगेंगे कि ऐसा जीवन क्या जीवन है? आपको कोई पुरस्कृत न करे, तो कोई अन्तर नहीं पड़ता, लेकिन यदि कोई आपका तिरस्कार करे, कोई आपको तुच्छ समझे, तो यह मरण समान ही है।

कलह मानव जीवन की सभी उपलब्धियों, सभी कलाओं का नाश कर देती है। कलह शारीरिक क्षति तो पहुंचाती ही है, मानसिक दृष्टि से भी मनुश्य को दुर्बल कर देती है। वह कुछ रचनात्मक कार्य करना चाहता है, लेकिन यदि नित्य प्रति कलह का सामना करना पड़े, चाहे वह कलह पारिवारिक हो, अथवा बाहर के किसी शत्रु के द्वारा उत्पन्न की गयी हो। जीवन का आनन्द तत्व तो समाप्त हो ही जाता है।

चैथी महत्वपूर्ण विपरीत स्थिति भय है, यह भय शत्रु से भी हो सकता है, अपने अधिकारी से भी हो सकता है और अपने व्यापारिक प्रतिस्पर्धी से भी हो सकता है। भय के तो सैकड़ों प्रकार हैं, इसमें से एक भी प्रकार का भय यदि मनुश्य को है तो वह सामान्य रूप से जीवनयापन नहीं कर सकता। यही चारों स्थितियां ही विष हैं, और विष को अपने जीवन से दूर करने का, नष्ट करने का एक उपाय है, वह है- गुरू की भक्ति से गुरू कृपा, प्राप्त कर साधना में सिद्धि प्राप्त कर लेना।

बगलामुखी साधना प्रयोगः-

देवी बगलामुखी की सिद्धि मंगलवार की चतुर्दशी से आरम्भ कर 40 दिन में सवा लाख मंत्र जप द्वारा की जाती है। विस्तृत साधना के तीन खण्ड प्रातः काल, मध्याह्न काल, तथा सायंकाल की साधना का विशेष क्रम है, और इस तांत्रोक्त साधना को इसी रूप में सम्पन्न करने से पूर्ण सिद्धि प्राप्त होती है। परंतु बगलामुखी साधना पर्वकाल (होली, दीपावली, महाशिवरात्रि) में केवल एक रात्रि में ही सिद्ध की जा सकती है। इसके अतिरिक्त बगलामुखी जयंती पर्व भी बगलामुखी साधना के लिये उपयुक्त है। इस वर्ष 26 अप्रैल 2015 के दिन श्री बगलामुखी जयंती पर्व है, इस दिन साधक यह साधना सम्पन्न कर सकते हैं।

साधना के लिये जिस सामग्री की आवश्यकता होती है वह इस प्रकार है- एक लकडी की चैकी तथा उस पर बिछाने के लिये पीला वस्त्र, पीले पुष्प, पीले रंगे हुये चावल, कुंकुम, पीली मौली, 21 साबुत सुपारी, हल्दी का चूर्ण, पीले रंग की नैवेद्य (मिठाई), हल्दी की 108 दाने की प्राण प्रतिष्ठित माला, तथा स्वर्णपत्र पर बने अथवा स्वर्ण आलेपित प्राण प्रतिष्ठित बगलामुखी महायंत्र, शुद्ध मुहूर्त में निर्मित स्वर्ण के कवच में रक्षा कवच, तथा बगलामुखी देवी का रंगीन चित्र।

इस साधना में बगलामुखी देवी का चित्र देखे तो इस देवी का स्वरूप दस महाविद्याओं में सबसे निराला लगता है। यह तीन नेत्र वाली देवी अपने एक हाथ में मुग्दर और दूसरे में शत्रु की जीभ लिये तीव्रतम प्रचण्ड रूप धारण किये तीनों लोकों को स्तम्भित कर देने वाली शक्ति है। देवी के इस स्वरूप में सोलह शक्तियाँ समाहित हैं-

  1. मंगला
  2. स्तम्भिनी
  3. जृम्भिणी
  4. मोहिनी
  5. वश्या
  6. वला
  7. बलका
  8. भूधरा
  9. कल्मषा
  10. धात्री
  11. कलना
  12. कलाकर्षिणी
  13. भ्राम्रिका
  14. मन्दगमा
  15. भोगस्था
  16. भाविका

यह प्रचण्ड साधना तीव्रतम साधना की श्रेणी में आती है, अतः किसी विशेष उद्देश्य की पूर्ति हेतु ही गुरू आज्ञा से की जानी चाहिए, अन्यथा इससे भयंकर दोष पैदा होकर शरीर का क्षय करने लग जाते हैं।

ऊपर लिखे जो चार दोष हैं, उनके निवारण हेतु विशेष संकल्प लेकर यह प्रयोग आरम्भ करना चाहिए। जब तक इन चार में से कोई एक कष्ट न हो तब तक गुरू भी इस साधना की आज्ञा नहीं देते-

  1. भयंकर शत्रु बाधा
  2. दीर्घकालिक कलह
  3. अति तिरस्कार
  4. प्राण हरने वाला भय।

कई सामान्य साधक जिन्हें पूजन विधि का पूर्ण ज्ञान नहीं होता, उनसे साधना में गलतियाँ हो सकती हैं, अतः शास्त्रों में विधान है, कि यदि पहले गुरू आज्ञा और गुरू पूजन कर के प्राणायाम साधन तथा गायत्री पाठ करके यह साधना प्रारम्भ की जाय, तो कोई साधनात्मक दोष नहीं रहता। साधना की आज्ञा गुरू से लेकर शुभ मुहूर्त अथवा पर्वकाल (दीपावली की रात्रि) में स्नानादि कर शुद्ध पीले वस्त्र धारण कर पीले ऊनी आसन पर बैठकर प्रथम हाथ में थोडे पीले रंगे हुये चावल तथा पवित्र जल लेकर संकल्प लिया जाता है-

संकल्प मंत्र-

ऊँ अस्य श्रीबगलामुखी महामंत्रस्य नारद ऋषिः वृहतीश्छन्दः श्रीबगलामुखी देवता ह्लीं बीजं स्वाहा शक्तिः मम् सकलकामनासिद्धयर्थे जपे विनियोगः

अब सामने एक लकडी की चैकी पर पीला वस्त्र बिछा कर उस पर बगलामुखी देवी का रंगीन चित्र स्थापित करें (इस चित्र को पहले ही फ्रेम करवा लें) फिर पीतल का दीपक शुद्ध घी से प्रज्जवलित करें। पीले पुष्प, पीले रंगे हुये चावल, साबुत सुपारी तथा एक पात्र में 250 ग्रा. हल्दी चूर्ण, हल्दी की माला तथा अन्य साधना सामग्री रखकर अर्धमुद्रित नेत्रों से देवी का ध्यान तथा मानसिक आहवाहन् करें-

ध्यान मंत्र-

दुष्ट स्तम्भन मुग्र विध्न शमनं दारिद्रîविच्छेदनं भूमद्धीशमनं चलन्मृगद्दशां चेतः समाकर्षणम्। सौभाग्यैक निकेतन मम दृशोः कारूण्यपूर्णेक्षणो शत्रो र्मारण माविरस्तु पुरतो मातस्त्वदीयं वपुः।।

करूणापूर्ण नेत्रों वाली माता बगलामुखी मेरे समक्ष आपका वह स्वरूप प्रगट हो जो शत्रुओं की शत्रुता को नष्ट तथा दुष्टों का स्तम्भन, भयंकर विध्नों का निवारण, दरिद्रता का विनाश, राजभय का शमन करने वाला है, मेरे नेत्रों के लिए सौभाग्य का एक मात्र निकेतन है, तुम्हारे चरणों में सादर प्रणाम !!

अब स्वर्णपत्र पर बने अथवा स्वर्ण आलेपित प्राण प्रतिष्ठित बगलामुखी महायंत्र तथा शुद्ध मुहूर्त में निर्मित स्वर्ण के कवच में रक्षा कवच को चैकी पर देवी के चित्र के सामने रखकर देवी के चित्र के साथ पूजन करें- पूजन में पीले पुष्प, पीले कुंकुम, हल्दी तथा मौली समर्पित करते हुये पूजा सम्पन्न करें, देवी के समक्ष पीले रंग की नैवेद्य (मिठाई) अर्पित करें। अब देवी की सोलह शक्तियों का पूजन प्रारम्भ करें, इस हेतु निम्न एक-एक मंत्र पढ़ते हुए सोलह बगलामुखी शक्तियों की स्थापना करें (सोलह स्थानो पर मंत्र पढते हुये एक-एक मुट्ठी हल्दी का चूर्ण रखें)।

ऊँ मंगलायै नमः

ऊँ स्तम्भिन्यै नमः

ऊँ जृम्भिण्यै नमः

ऊँ मोहिन्यै नमः

ऊँ वश्यायै नमः

ऊँ वलायै नमः

ऊँ बलकायै नमः

ऊँ भूधरायै नमः

ऊँ कल्मषायै नमः

ऊँ धात्रयै नमः

ऊँ कलनायै नमः

ऊँ कालाकर्षिण्यै नमः

ऊँ भ्रामिकायै नमः

ऊँ मन्दगमनायै नमः

ऊँ भोगस्थायै नमः

ऊँ भाविकायै नमः

अब प्रत्येक देवी शक्ति के आगे एक साबुत सुपारी रखें और पीले चावल तथा पीले पुष्प अर्पित करें। और फिर हल्दी की माला से जप आरम्भ कर सूर्योदय तक मंत्र का जप करते रहें। यदि जप के बीच में लघुशंका के लिये उठना पडे तब देवी को विलम्ब की प्रार्थना करके उठें और दोबारा देवी का ध्यान करते हुये जप आरम्भ कर सूर्योदय तक जप करें दीपक में घी की आवश्यकता हो तो चम्मच से डालते रहें।

जप मंत्र-

ऊँ हृीं बगलामुखी सर्वदुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तम्भय जीह्नां कील्य बुद्विं विनाश्य हृीं ऊँ स्वाहाः।

ओम र्हिं बाग्लमुखी सरवदुस्ताना वाचम मुखाम पदम स्तंभयाए जीव्हां कीलयाए बुधीं विनाश्याए र्हिं ओम स्वाहा 

जप पूर्ण होने पर जप समर्पण मंत्र का पाठ हाथ में माला लेकर हाथ जोडकर प्रार्थना करते हुये करें-

जप समर्पण मंत्र-

गुह्यातिगुह्यगोप्ता त्वं गृहाणास्मत्कृतं जपम्। सिद्धिर्भवतु मे देव त्वत्प्रसादात् सुरेश्वर।।

अर्थात् हे ‘देवी ! सुरेश्वरी !! आप गोपनीय से भी अति गोपनीय वस्तु की गोप्ता (संरक्षक) हैं, हमारे द्वारा किये गये इस जप को ग्रहण करें और आपकी कृपा से मुझे सिद्धि प्राप्त हो। इस के पश्चात् देवी को मानसिक विदाई देते हुये नमस्कार करें और देवी को जो नवैदय का भोग लगाया था उस मिष्ठान का परिवार सहित प्रसाद ग्रहण करें। प्रज्जवलित दीपक शांत होने पर स्वर्ण आलेपित प्राण प्रतिष्ठित बगलामुखी महायंत्र तथा देवी बगलामुखी के रंगीन चित्र को छोडकर शेष सामग्री हटा लें। शुद्ध मुहूर्त में निर्मित स्वर्ण के कवच में रक्षा कवच को देवी के चित्र के सामने से हटाकर अपने गले में पीले धागे के साथ श्रद्धापूर्वक धारण करें और हमेशा धारण किये रहें। (यह कवच गुरूजी द्वारा विशेष रूप से शुद्ध मुहर्त में निर्माण किया गया है।) इस कवच के प्रभाव से शत्रु निर्बल तथा स्वयं के पराक्रम में वृद्धि होती है। शेष सभी सामग्री फूल, चावल, हल्दी व सुपारी इत्यादि जल में विसर्जित कर दें। देवी के चित्र को तथा बगलामुखी यंत्र को अपने पूजा स्थान में ही स्थापित कर दें।

नोट- इस विशेष साधना को करने से पहले गुरूजी से आज्ञा लेकर साधना सामग्री का कार्यालय से प्राप्त कर सकते हैं।

 

Diwali Pooja Muhurat 2016

diwali pooja muhurat 2016

Diwali Pooja Muhurat 2016

30 अक्तूबर 2016 दीपावली पर्व है। दीपावली की रात्रि प्रदोषकाल में महालक्ष्मी पूजन (Diwali Pooja Muhurat 2016) की परम्परा आदिकाल से चली आ रही है। इस दिन सूर्य व चन्द्रमा तुला (शुक्र की राशि) में विचरण कर रहे होते हैं।

कार्तिक अमावस्या की रात्रि स्थिर लग्न (वृष या सिंह) में महानिशीथ काल में महालक्ष्मी का पूजन करने से माता लक्ष्मी साधक के घर स्थाई निवास करती हैं।

इस वर्ष महालक्ष्मी पूजन MahaLaxmi Diwali Pooja Muhurat 2016 का शुभ तथा विशेष मुहूर्त सॉय 18:28 से आरम्भ होकर 20:22 तक रहेगा।

इस दिन सॉय 18:28 से 20:22 तक के समय में अमावस्या तिथि अंतर्गत वृष लग्न तथा शुभ, अमृत तथा चर का चौघडिया का शुभ योग बना है।

स्थिर लग्न के मुहूर्त में महालक्ष्मी पूजन करने से धन-धान्य स्थिर रहता है। इस मुहूर्त में दीपदान, गणपति सहित महालक्ष्मी पूजन, कुबेर पूजन, बही-खाता पूजन तथा धर्मस्थलों में और अपने घर में दीप प्रज्जवलित करना चाहिये।

Related :

दीपावली पूजन तथा इस रात्रि में की जाने वाली विशेष साधनाओं का विस्तार पूर्वक विवरण जानने के लिये देखें गुरूजी द्वारा प्रकाशित अॉनलाईन ज्योतिषीय मासिक पत्रिका aapkabhavishya यह पत्रिका www.shukracharya.com पर नि:शुल्क उपलब्ध है।

इस के अतिरिक्त AapKaBhavishya.in पर भी गुरूजी (डा. आर.बी.धवन) के ज्योतिषीय लेख भी आप पढ़ सकते हैं।

नाग पंचमी उपाय Nag Panchami Muhurat & Upaya 2016

Nag Panchami Muhurat & Upaya 2016

Nag Panchami Muhurat & Upaya नाग पंचमी 7 अगस्त 2016

हमारे धर्म ग्रन्थों में श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पूजा Nag Panchami Muhurat & Upaya का विधान है। पुराणें के अनुसार नागों की अनेक जातियाँ और प्रजातियाँ हैं। भविष्य पुराण में नागों के लक्षण, नाम, स्वरूप एवं जातियों का विस्तार से वर्णन मिलता है। मणिधारी तथा इच्छाधारी नागों का भी उल्लेख मिलता है।

श्रावणमास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी (Nag Panchami Muhurat & Upaya) का त्यौहार नागों को समर्पित है। इस त्यौहार पर व्रत पूर्वक नागों का अर्चन-पूजन होता है। व्रत के साथ एक बार भोजन करने का नियम है। पूजा में पृथ्वी पर नागों का चित्रांकन किया जाता है। स्वर्ण, रजत, काष्ठ या मृत्तिका से नाग बनाकर पुष्प, गंध, धूप-दीप एवं विविध नैवेद्यों से नागों का पूजन होता है।

नाग अथवा सर्प पूजा की परम्परा पूरे भारतवर्ष में प्राचीनकाल से रही है, प्रत्येक गाँव में ऐसा स्थान अवश्य होता है, जिसमें नाग देव की प्रतिमा बनी होती है, और उसका पूजन किया जाता है।

नागपंचमी (Nag Panchami Muhurat & Upaya) के दिन को तो एक उत्सव के रूप में मनाया जाता है, इसके पीछे भी विशेष कारण है जिस का वर्णन आगे इसी लेख में करेंगे। समय के अनुसार मूल स्वरूप को अवश्य भुला दिया गया है।

क्या नाग देवता हैं?

जिस प्रकार मनुष्य योनि है, उसी प्रकार नाग भी योनि भी है, प्राचीन कथाओं में उल्लेख मिलता है कि पहले नागों का स्वरूप मनुष्य की भांति होता था, लेकिन नागों को विष्णु की अनन्य भक्ति के कारण वरदान प्राप्त होकर इनका स्वरूप बदल दिया गया, और इनका स्थान विष्णु की शय्या के रूप में हो गया, नाग ही ऐसे देव हैं, जिन्हें विष्णु का साथ हर समय मिलता है, और भगवान शंकर के गले में शोभा पाते हैं, भगवान भास्कर (सूर्य) के रथ के अश्व भी नाग का ही स्वरूप हैं।

भय एक ऐसा भाव है, जिससे कि बली से बली व्यक्ति, बुद्धिमान से बुद्धिमान व्यक्ति, भी अपने को शक्तिहीन समझता है। कोई अपने शत्रुओं से भय खाता है, कोई अपने अधिकारी से भय खाता है, कोई भूत-प्रेत से भयभीत रहता है, भयभीत व्यक्ति उन्नति की राह पर कदम नहीं बढ़ा सकता है, भय का नाश, और भय पर विजय प्राप्त करना प्रत्येक मनुष्य के लिए आवश्यक है, और नाग, सर्प देवता भय के प्रतीक हैं, इसलिए इनकी पूजा का विधान हर जगह मिलता है।

सम्बंधित : Nazardosh Ke Saral Upay

नाग पंचमी रक्षात्मक प्रार्थना का पर्व-

आमतौर पर नागपंचमी (Nag Panchami Muhurat & Upaya) के पर्व को महिलाओं का ही पर्व माना जाता है, जो कि बिल्कुल गलत है, ‘‘नाग’’ वास्तव में कुण्डलिनी शक्ति के स्वरूप हैं, यह विशेष पर्व कुण्डलिनी शक्ति की उपासना का पर्व है। इस पर्व पर छोटा-मोटा कुण्डलिनी जागरण प्रयोग कर व्यक्ति किसी भी प्रकार की भय बाधा से मुक्ति पा सकता है।

इसका विधान भी अत्यंत सरल है-
नागपंचमी के दिन प्रातः जल्दी उठकर सूर्योदय के साथ सबसे पहले शिव पूजा संपन्न करनी चाहिए, शिव पूजा में शिवजी जी का ध्यान कर शिवलिंग पर दूध मिश्रित जल चढ़ायें और एक माला ‘ऊँ नमः शिवाय’ मंत्र का जप अवश्य करें। नाग पूजा में साधक अपने स्थान पर भी पूजा संपन्न कर सकता है, और किसी देवालय में भी।

किसी धातु का बना छोटा सा नाग का स्वरूप ले लें या फिर एक सफेद कागज पर नाग देवता का चित्र बना लें। इसे अपने पूजा स्थान में सामने सिंदूर से रंगे चावलों पर स्थापित करें, और एक पात्र में दूध नैवेद्य स्वरूप रखें। सर्वप्रथम अपने सदगुरू का ध्यान कर, सर्प भय निवृति हेतु प्रार्थना करें, तत्पश्चात नागदेवता का ध्यान करें कि-

हे नागदेव! मेरे समस्त भय, मेरी समस्त पीड़ाओं का नाश करें, मेरे शरीर में अहंकार रूपी विष को दूर करें, मेरे शरीर में व्याप्त क्रोध रूपी विष से मेरी रक्षा करें, इसके बाद नागदेव के चित्र पर सिंदूर का लेप करें, तथा इसी सिंदूर से अपने स्वयं के तिलक लगायें। इस के बाद अग्र लिखित मंत्र का 21 बार पाठ करते हुये नाग देवता तथा कुण्डलिनी शक्ति का ध्यान करें।

मंत्र-
जरत्कारूर्जगद्गौरी मनसा सिद्धयोगिनी। वैष्णवी नागभगिनी शैवी नागेश्वरी तथा ।।
जरत्कारूप्रिया स्तीकमाता विषहरेति च। महाज्ञानयुता चैव सा देवी विश्वपूजिता।।
द्वादशैतानि नमानि पूजाकाले तु यः पठेत्। तस्य नागभयं नास्ति सर्वत्र विजयी भवेत्।।

थोड़ी देर शांत होकर बैठ जायें तथा ऊँ नमः शिवाय का जप करते रहें, इससे भय का नाश होता है और बड़ी से बड़ी बाधा से लड़ने की शक्ति प्राप्त होती है।

पूजन के बाद नागदेव के सम्मुख रखे दूध को प्रसाद स्वरूप स्वयं ग्रहण करें, यदि यह दूध किसी अस्वस्थ व्यक्ति को पिलाया जाये, तो उसे दिन-प्रतिदिन स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होगा। यदि कोई किसी पुराने रोग से पीड़ित हो तो यह प्रयोग 7 दिन तक करें, लेकिन पूजन से पहले अस्वस्थ व्यक्ति के नाम से संकल्प अवश्य लें। इस पूजा का प्रभाव इतना अनुकूल रहता है कि विशेष कार्य पर जाते समय नागदेव का ध्यान कर, यदि आप प्रबल से प्रबल शत्रु के पास भी चले जाते हैं, तो वह शत्रु आप से सत व्यवहार ही करेगा, हानि देने की बात ही दूर रही।

संतान प्राप्ति का नाग शान्ति प्रयोग-

जो स्त्रियाँ नागपंचमी के दिन नागदेव का विधि-विधान सहित पूजन करती हैं, उनकी संतान प्राप्ति की कामना अवश्य पूर्ण होती है। स्त्रियों को अपनी संतान रक्षा हेतु भी नाग शान्ति प्रयोग करना चाहिये। नागपंचमी के दिन सांयकाल शिव का ध्यान करते हुए नाग देव का पूजन करना चाहिए, इसमें पूजन तो ऊपर दी गई विधि के अनुसार ही करना है किंतु अंतर केवल इतना ही है, कि संतान प्राप्ति तथा रक्षा हेतु आगे दिये मंत्र का 51 बार जप करें-

अनन्तं वासुकिं शेषं पùनाभं च कम्बलम्।
शंखपालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा।।
एतानि नव नामानि नागानां च महात्मनाम्।
संतान प्राप्यते संतान रक्षा तथा।
सर्वबाधा नास्ति सर्वत्र सिद्धि भवेत्।।

यह प्रयोग नागपंचमी से लेकर सात दिन तक संपन्न करें। इस प्रयोग को करने से भयबाधा व संतान की कामना पूर्ति अवश्य होती है।

Dukh Nashak Shani Dev सर्व दुःख नाशक शनि देव

Shani Dev

Sarv Dukh Nashak Shani Dev सर्व दुःख नाशक शनि देव

Shani Dev
Sarv Dukh Nashak Shani Dev

समस्त ग्रहों में शनिदेव(shani dev)  ही ऐसे ग्रह हैं, जो अत्यन्त क्रोधी होते हये भी अत्यन्त दयालु कहे गये हैं। इनके विषय में कहा गया है, कि जब ये किसी पर क्रोधित होते हैं, तो उसका सर्वनाश कर डालते हैं। इसी प्रकार जब ये किसी से प्रसन्न होते हैं, तो रंक को भी राजा बना देते हैं।

पौराणिक कथाओं में शनि(shani dev) को सूर्य-पुत्र, यम का भाई, अपने भक्तों को अभय देने वाला, समस्त विघ्नों को नष्ट करने वाला एवं सम्पूर्ण सिद्धियों का दाता कहा गया है। जबकि ज्योतिष की दृष्टि में शनि एक क्रूर ग्रह है। कहा गया है, कि यह क्रूर ग्रह एक ही पल में राजा को रंक बना देता है।

जब बात आती है शनि दशा या साढेसाती की, तो हमारा भयभीत एवं चिन्तित होना स्वाभाविक होता है। समस्त ग्रहों में शनिदेव ही ऐसे ग्रह हैं, जो अत्यन्त क्रोधी होते हुये भी अत्यन्त दयालु हैं। इनके विषय में कहा गया है, कि जब ये किसी पर क्रोधित होते हैं, तो उसका सर्वनाश कर डालते हैं। इसी प्रकार जब ये किसी से प्रसन्न होते हैं, तो रंक को भी राजा बना देते हैं।

जब सृष्टि की रचना आरम्भ हुई, तो सृष्टि रचना का कार्यभार ब्रह्मा ने संभाला, विष्णु ने जीवों के पालन एंव उनकी रक्षा का उत्तरदायित्व लिया और भगवान शंकर को आवश्यकता पड़ने पर सृष्टि का संहार एवं दुष्ट जनों के विनाश का कार्य सौंपा गया। अपने भक्तों की रक्षा एवं पतितों को उनके पापों का दण्ड देने के लिये शिवजी ने अपने गणों की उत्पत्ति की।

सूर्य पुत्र यम एवं शनि (shani dev) को भी उनके गणों में सम्मिलित किया गया। शनि अत्यन्त पराक्रमी होने के साथ उद्दण्ड भी थे; तोड़-फोड़, मार-काट एवं विनाशकारी कार्यो में इनकी आरम्भ से ही रूचि थी। यह देखकर शिवजी ने यम को तो मृत्यु का देवता बनाया और शनि को दुष्ट जनों को उनके पापों का दण्ड देने का कार्य सौंपा।

शनि (shani dev) भगवान शंकर के शिष्य, सूर्य के पुत्र तथा यम के भाई हैं। शनि सर्वदा प्रभु भक्तों को अभय दान देते हैं, और उसकी हर प्रकार से रक्षा करते हैं। शनि समस्त सिद्धियों के दाता हैं। साधना, उपासना द्वारा सहज ही प्रसन्न होते हैं, और अपने भक्तों की समस्त कामनाओं को पूरा करते हैं। शनि सभी ग्रहों में महाशक्तिशाली और घातक हैं। कहते हैं कि सांप का काटा और शनि का मारा पानी नहीं मांगता।

जब शनि (shani dev) का प्रभाव पड़ा, तो श्री कृष्ण को द्वारिका में शरण लेनी पड़ी। और भगवान राम को, जिनका राज तिलक होने वाला था, सब कुछ छोड़कर नंगे पांव वन में जाना पडा। शनि के प्रभाव से जब अवतारी पुरूष भी नहीं बच सके, तो भला सामान्य लोगों का शनि के प्रकोप से बच पाना सम्भव कहां है?

ये सभी कथायें एक सीमा तक सत्य हैं, परन्तु इनके आधार पर भ्रमित होना विद्वता नहीं हैं। वस्तुतः शनि ग्रह की व्याख्या ही अधूरी है। शनि का तात्पर्य है ‘जीवन की गति’।

राशिगत शनि का प्रभाव किस प्रकार से पड़ता है? और किस राशि पर यह विचरण करता है, इस का क्या प्रभाव होता है? यह किसी विद्वान ज्योतिषी से ही जाना जा सकता है। शनि (shani dev) पीड़ादायक हो सकता है, लेकिन यदि शनि को अनुकूल बना लिया जाये, तो यह सर्वोच्चता भी प्रदान कर सकता है।

शनि देव सम्बंधित अन्य लेख : Shani Amavasya Upaya

ब्रह्मवैवर्त पुराण में यह वर्णन मिलता है, कि जब माता-पार्वती के गर्भ से भगवान गणपति ने जन्म लिया, तो नवजात शिशु को आशीर्वाद प्रदान करने के लिये समस्त देवी-देवता ग्रह नक्षत्र, यक्ष-गन्धर्व आदि उपस्थित हुये तथा एक-एक कर सभी ने गणपति को अपने सामर्थ्य अनुसार तेजस्विता प्रदान की।

इस क्रम में माता पार्वती का ध्यान शनि देव (shani dev) पर गया, जो कि एक किनारे चुप-चाप सिर झुकाऐ खडे़ थे। थोड़ी देर तक माता पार्वती इस बात को देखती रहीं, किन्तु समझ में नहीं आया, कि शनिदेव आगे बढ़कर शिशु का मुख देखकर उसे आशीर्वाद क्यों नहीं दे रहें हैं, अतः उन्होंने इसका कारण शनिदेव से ही पूछा-‘क्या आपको खुशी नहीं हो रही है?’

प्रसन्नता नहीं हो रही है? आप क्यों नहीं आगे बढ़कर मेरे पुत्र को आशीर्वाद दे रहे हैं? मेरे पुत्र की तरफ आप क्यों नहीं दृष्टिपात कर रहे हैं? यह सुनकर शनिदेव ने सिर झुकाये हुये अत्यन्त विनम्रता से कहा- ‘मां ! ऐसा करने के लिये आप मुझे न कहें, क्योंकि मैं नहीं चाहता हूं, कि इस कोमल शिशु का अनिष्ट हो।’ यह सुनकर पार्वती को उनकी बात पर भरोसा नहीं हुआ और उन्होनें आज्ञा दी-‘तुम आगे आओ और बालक को देखकर आशीर्वाद दो।’

अत्यन्त विवश होकर शनिदेव (shani dev) ने थोड़ा सा सिर उठाकर बालक की ओर देखा, तो उनकी दृष्टि पड़ते ही उस शिशु का सिर धड़ से अलग हो गया। यह देखकर पार्वती को बहुत कष्ट हुआ और क्रोध भी आया, किन्तु वे शनि को कुछ कह भी नहीं पा रही थीं, क्योंकि आज्ञा उन्होंने स्वयं दी थी। फिर उनके मुंह से निकल गया-‘भगवान शिव ही बचायें शनि की दृष्टि से’।

एक और प्रसंग है, रोहिणी शकट भेदन से सम्बन्धित, जो इस प्रकार है-
ज्योतिषियों ने जब नीलम सी क्रांति वाले शनिदेव को कृतिका नक्षत्र के अन्तिम चरण में देखा, तो वे भयभीत हो गए। रोहिणी शकट भेदन देवताओं के लिये भी दुःखदायी होता है, तथा राक्षस भी इससे भयभीत हो जाते हैं। सभी राजाओं के लिये यह परेशानी का कारण था, राजा दशरथ जो कि महा तेजस्वी व ईश्वर भक्त थे, उनका रथ नक्षत्र मण्डल को भी पार करने की शक्ति रखता था।

बहुत सोच-विचार करने पर भी तब कोई हल न निकला, तो वे अपने अलौकिक अस्त्र-शस्त्र लेकर नक्षत्र मण्डल की ओर चल दिये। वे सूर्य से भी ऊंचे उठकर रोहिणी पृष्ठ की ओर गये। वहां से उन्होंने शनिदेव को कृतिका से रोहिणी में प्रवेश को तत्पर जानकर अलौकिक संहारास्त्र का प्रयोग करने हेतु अपने आपको संयोजित किया।

तब शनिदेव (shani dev) महाराज दशरथ का यह अदम्य साहस देखकर बहुत प्रसन्न हुये और वरदान मांगने को कहा। शनिदेव को प्रसन्न हुये देख महाराज दशरथ ने उनकी स्तुति की और कहा, हे शनिदेव! प्रजा के कल्याण हेतु आप रोहिणी नक्षत्र का भेदन न करें।

शनि देव ने प्रसन्न हो कर तुरंत कहा ‘‘तथास्तु’’ और यह भी कहा कि जो व्यक्ति आप द्वारा सुनाये गये स्तोत्र से मेरी स्तुति करेंगे, उन पर मेरा प्रतिकूल प्रभाव कभी नहीं होगा।

जय शनि देव।। 

सम्बंधित : Shani Yantra Locket

Mesh Lagn Features मेष लग्न की विशेषता

mesh lagn aries ascendant

मेष लग्न की विशेषता Mesh Lagn Features

मेष लग्न (Mesh Lagn) में जन्म लेने वाला व्यक्ति मंझले कद का तथा ललाई युक्त गौर वर्ण का होता है। ऐसा व्यक्ति चतुर तथा तुरन्त निर्णय लेने वाला होता है, राज्य समाज में प्रगति करता है। प्रत्येक कार्य के वैज्ञानिक विधि से सम्पन्न करना चाहता है। स्वयं की प्रतिभा से प्रतिष्ठा प्राप्त करता है। ज्यौतिष आदि किसी कला का प्रेमी होता है,परंतु जल से भय करता है।

mesh lagn aries ascendant
mesh lagn aries ascendant

मेष लग्न (Mesh Lagn) के विभिन्न ग्रहों से सम्बन्धित फल :

सूर्य:- मेष लग्न (Mesh Lagn) में सूर्य पंचमेश होता है, वह इस भाव से सम्बन्धित-विद्या, बुद्धि, विवेक, वाणी, सन्तान तथा तेज से सम्बन्धित फल प्रदान करता है। त्रिकोणाधिपति होने से सूर्य कारक माना जाता है। तथा अपनी महादशा व अन्तर्दशा में भाव स्थिति के अनुसार शुभ फल प्रदान करता है।

चन्द्र:- मेष लग्न (Mesh Lagn) में चन्द्र चतुर्थ, भाव का अधिपति होता है। शुभ ग्रह केन्द्राधिपति हो तो अशुभ फल प्रदान करता है। चन्द्र माता का नैसर्गिक कारक ग्रह है। यह माता, भूमि मनोबल, सुख, वाहन, जायदाद आदि से सम्बन्धित फल प्रदान करेगा।

मंगल:- मेष लग्न (Mesh Lagn) में मंगल लग्नेश व अष्टमेश होता है, लग्नेश होने से कारक तथा अष्टमेश होने से मारक होता है, पर लग्नेश को अष्टमेश होने का दोष नहीं लगता। अतः मंगल कारक ही रहेगा तथा अपनी दशा अन्तर्दशा में शुभ फल प्रदान करेगा। मंगल छठे, आठवे या बारहवें भाव में स्थित होने पर इसके कारकत्व में कुछ कमी आ जाती है। मंगल तन, रूप, आयु दिनचर्या, आत्मबल, पुरातत्व, उदर आदि से सम्बन्धित फल प्रदान करता है।

बुध:- तृतीयेश व षष्ठेश होने से बुध मेष लग्न (Mesh Lagn) में सर्वथा अकारक माना जाता है, तथा अपनी दशा अन्तर्दशा में अशुभ फल प्रदान करता है। यह चर्म रोग व शत्रु उत्पन्न करता है। तथा व्यापार में उतार-चढ़ाव लाता है। भाई-बहन, पराक्रम, प्रभाव, शत्रु, रोग ननिहाल, आदि से सम्बन्धित फलादेश बुध की स्थिति से देखा जाता है।

गुरू:- मेष लग्न (Mesh Lagn) में गुरू भाग्येश व व्ययेश होता है। भाग्येश होने से पूर्ण कारक तथा व्ययेश होने से अकारक होता है। अतः गुरू-दशा का पूर्वाद्ध शुभ तथा उत्तरार्द्ध व्यय कारक होता है। कतिपय पंडितों के मतभेद के बाबजूद भी मेष लग्न में गुरू को कारक ही मानना चाहिये। क्योंकि लग्न से गिनने पर जो भाव पहले आता है, उससे सम्बन्धित फल ही वह ग्रह प्रदान करता है।
नवम भाव द्वादश भाव से प्रथम आने के कारण गुरू भाग्य-वर्द्धक ही रहेगा। फिर वह नैसर्गिक शुभ ग्रह भी है। तीसरे यह भी सामान्य सिद्धान्त है कि दो भावों का अधिपति होने की दशा में कोई भी ग्रह उस भाव से सम्बन्धित फल विशेष रूप से प्रदान करेगा। जिस भाव में उसकी मूल त्रिकोण राशि होगी। गुरू की मूल त्रिकोण राशि नवम भाव में होगी।
अतः गुरू इस भाव से सम्बन्धित फल ही प्रदान करेगा। शुभ स्थान में स्थित होने पर अवश्यमेव उच्च फल प्रदान करेगा। भाग्य, धर्म, यश, व्यय, अन्य स्थान आदि से सम्बन्धित फल गुरू की स्थिति से देखना चाहिये।

शुक्र:- मेष लग्न में शुक्र द्धितीयेश व सप्तमेश होता है। द्धितीयेश होने से शुक्र का सम्बन्ध धन-कुटुम्ब आदि से तथा सप्तमेश होने के कारण जीवन साथी, रोजगार, भोग-विलास आदि से होता है। द्धितीयेश होने से शुक्र अकारक तथा मारक प्रभाव लिये हुये होता है। पर स्वगृही या उच्च का होने पर अपनी महादशा व अन्तर्दशा में खूब धन व भोग विलास देता है। सप्तमेश (शुभ ग्रह केन्द्राधिपति होने से) शुक्र भी अकारक माना जाता है। अतः मेष लग्न में शुक्र अकारक ही रहेगा। तीसरे भाव का शुक्र भी अपनी दशा में अशुभ फल ही देगा। मेष लग्न में शुक्र की सर्वोत्तम स्थिति द्धितीय व द्धादश भाव में होगी।

शनि:- मेष लग्न (Mesh Lagn) में शनि दशमेश व एकादशेश अर्थात् राज्येश लाभेश होगा। दशमेश होने से (क्रूर ग्रह केन्द्राधिपति होने पर शुभ फल प्रदान करता है) शनि कारक तथा एकादशेश होने से अकारक है, लग्न से दशम भाव प्रथम होने के कारण उस भाव से सम्बन्धित फल शनि अधिक देगा पर उसकी मूल त्रिकोण राशि कुम्भ एकादश भाव में होने के कारण एकादश भाव से सम्बन्धित फल ही प्रदान करेगा।
अतः शनि सम हुआ। पर स्वभाव से क्रूर ग्रह होने के कारण मेष लग्न में शनि अकारक ही रहेगा। शुभ भाव में स्थित होने पर ही (सप्तम या दशम भाव में) अपनी महादशा व अन्तर्दशा में उच्च फल प्रदान करेगा, अन्यथा नहीं।

राहु-केतु:- मेष लग्न (Mesh Lagn) में तीसरे, छठे एवं ग्यारहवें भाव में स्थित होने पर राहु केतु अच्छा फल प्रदान करेगे।

मेष लग्न (Mesh Lagn) में उच्च नीच व स्वगृही ग्रहों का फल:-

सूर्य:- मेष लग्न (Mesh Lagn) कुण्डली Kundli  में प्रथम भाव में स्थित होने पर सूर्य उच्च का होता है, 10 अंश तक परमेच्य होता है। जिस जातक के सूर्य लग्न में स्थित होता है, वह व्यक्ति स्वस्थ शरीर वाला, विद्वान होता है। सन्तान पक्ष की प्रबलता, बुद्धिमत्ता, साहस, धैर्य, व्यवहार कुशलता तथा महात्वाकाँक्षा आदि गुण उसे सहज ही प्राप्त होते हैं।

पर सप्तम भाव पर सूर्य की नीच दृष्टि पड़ने के कारण उस भाव में सम्बन्धित फल में न्यूनता आ जायेगी। अतः जातक को दाम्पत्य सुख में कुछ कमी तथा क्लेश की प्राप्ति होती है, और उसकी मर्जी के अनुसार भी कम ही चलेगी। रोजगार के क्षेत्र में भी (विशेष कर सूर्य की दशा, अन्तर्दशा में) उसे अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा।

पंचम भाव में स्वगृही सूर्य के होने पर जातक अत्यन्त व्रिद्धान, बुद्धिमान, प्रभावशाली तथा वाणी का धनी होगा, तथा सन्तान से शक्ति प्राप्त करेगा। ऐसे सूर्य की लाभ स्थान पर शत्रु क्षेत्रीय दृष्टि होने से आमदनी के मार्ग में रूकावट आयेगी।

मेष लग्न (Mesh Lagn) की कुण्डली kundli के सप्तम भाव में नीच राशिस्थ सूर्य के प्रभाव से जीवन साथी के सम्बन्ध में कुछ न कुछ परेशानी बनी रहेगी, तथा जीवन साथी का सुख कम प्राप्त होगा। जीवन यापन के मार्ग में निरन्तर कठिनाइयाँ आयेंगी।

पंचमेश सूर्य के नीच राशि में होने से विद्या क्षेत्र में कमजोरी रहेगी, तथा सन्तान पक्ष कमजोर रहेगा। सूर्य की सप्तम उच्च दृष्टि लग्न पर होने के कारण जातक का शरीर कुछ लम्बे कद का होगा। हृदय में स्वाभिमान की मात्रा अधिक होगी। युक्ति बल द्वारा वह सम्मान तथा प्रतिष्ठा प्राप्त करेगा।

उच्च नीच व स्वगृही चन्द्र का फल:-

द्वितीय भाव में उच्चस्थ चन्द्र के प्रभाव से जातक बहुत धनी तथा जमीन जायदाद का स्वामी होगा। श्वेत वस्तु चाँदी आदि का व्यापार करेगा। जिसमें अच्छा लाभ होगा। कुटुम्ब की वृद्धि होगी। द्धितीय स्थान मारक प्रभाव युक्त भी होता है।

अतः माता के सम्बन्ध में किसी न किसी कमी का अनुभव भी होता रहेगा। अष्टम भाव पर नीच दृष्टि होने से आयु, व पुरातत्व के सम्बन्ध में कुछ परेशानी भी बनी रहेगी। शुक्र की महादशा व चन्द्र के अन्तर में यदि चाँदी आदि श्वेत वस्तु का व्यवसाय किया जाये तो लाखों की प्राप्ति होती है।

चतुर्थ भाव में स्वगृही चन्द्र के प्रभाव से जातक की माता, भूमि व जमीन जायदाद का उŸाम सुख प्राप्त होगा। मनोरंजन के साधन निरन्तर प्राप्त होंगे। पर दशम भाव में शनि की मकर राशि पर चन्द्र की दृष्टि होने से पिता से वैमनस्य रहता है, तथा राज्य पक्ष में भी व्यवधान आ सकता है।

अष्टम भाव में नीच राशिस्थ चन्द्र के प्रभाव से आयु व पुरातत्व सम्बन्धी हानि उठानी पड़ती है। चतुर्थेश के नीचस्थ होने के कारण माता सम्बन्धी सुख में कमी आती है, जन्म स्थान से बाहर रहना पड़ता है। तथा घरेलू सुख शान्ति में कमी आती है। पर धन भाव पर चन्द्र की उच्य दृष्टि पड़ने से धन सम्बन्धी सुख निरन्तर प्राप्त होता रहता है। जातक धन व सुख प्राप्त करने हेतु मनोयोग के साथ निरन्तर प्रयत्न शील रहेगा।

उच्च, स्वगृही व नीचस्थ मंगल का फल:-

मेष लग्न (Mesh Lagn) कुण्डली के दशम भाव में मंगल के स्थित होने पर वह उच्च का माना जाता है। मंगल अपने शत्रु शनि की राशि पर होने के कारण पिता के साथ जातक का कुछ वैमनस्य रहता है, पर जातक व्यवसाय में विशेष उन्नति प्राप्त करेगा, तथा राज्य से भी पुरस्कार प्राप्त हो सकता है। मंगल जो लग्नेश है लग्न भाव पर पूर्ण दृष्टि डालता है। अतः शारीरिक प्रभाव में उन्नति करेगा। चतुर्थ भाव पर नीच दृष्टि पड़ने से माता तथा भूमि सम्बन्धी सुख में कमी आयेगी।

प्रथम भाव में स्वगृही मंगल की स्थिति के प्रभाव से जातक का शरीर पुष्ट होगा, तथा आत्मबल प्रचुर मात्रा में होगा पर अष्टमेश होने के कारण कभी-कभी रोगों का शिकार भी होना पड़ता है।
चतुर्थ भाव पर नीच दृष्टि होने से माता, जमीन, जायदाद के सम्बन्ध में परेशानी होती है।
सप्तम भाव पर मंगल की दृष्टि स्त्री व रोजगार के क्षेत्र में बाधा डालती है।
मंगल की महादशा व अंतर्दशा सामान्यतया लाभप्रद रहेगी।

चतुर्थ भाव में नीचस्थ मंगल के प्रभाव से जातक को माता, जमीन, जायदाद तथा सुख में कमी आती है।
सप्तम भाव पर दृष्टि होने से स्त्री व रोजगार सम्बन्धी बाधा आती है।
पर दशम भाव पर उच्च दृष्टि पड़ने से पिता तथा राज्य सम्बन्धी मामलों मे विशेष उन्नति होती है।
जिस भाव में कोई भी नीच का ग्रह स्थित होगा वहाँ उस भाव से सम्बन्धी फलों में कुछ न्यूनता आ जायेगी।
स्वगृही ग्रह अपने भाव से सम्बन्धित उच्च फल ही देगा।

मेष लग्न में विभिन्न योग:-

1. रूचक योग:- किसी भी लग्न कुण्डली में यदि मंगल अपनी राशि का होकर, या मूल त्रिकोण का होकर अथवा उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित होगा तो रूचक योग बनेगा। मेष लग्न कुण्डली में मंगल के लग्न अथवा दशम भाव में स्थित होने पर यह योग बनता है।
फल:- इस योग वाला जातक हृष्ट-पुष्ट बलिष्ठ तथा चरित्रवान होता है। वह अपने कार्यो से प्रसिद्धि प्राप्त करता है। देश व संस्कृति के प्रति जागरूक रहता है, सेना में उच्च अधिकारी हो सकता है।

2. मालव्य योग:- शुक्र के स्वराशि, मूल त्रिकोण या उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित होने पर मालव्य योग बनता है। मेष लग्न में शुक्र केवल सप्तम भाव में बैठ कर मालव्य योग बना सकता है। (सप्तम भाव में शुक्र अकारक तथा गृहस्थ-जीवन को बिगाड़ने वाला माना जाता है।)
फल:- इस योग वाला जातक सुन्दर व आकर्षक शरीर वाला, धनी ख्याति प्राप्त कलाकार, दीर्घायु एवं उŸाम वाहन का मालिक होता है।

3. शश योग:- शनि अपनी उच्च शशि, स्वराशि या मूल त्रिकोण राशि का हो, तथा केन्द्र में स्थित हो तो शश योग बनता है। मेष लग्न की कुण्डली में शनि सप्तम भाव एवं दशम भाव में स्थित होकर शश योग बनता है।
फल:- शश योग रखने वाला जातक राजनीति में चतुर होता हैं। धीरे-धीरे उन्नति करता है, तथा नौकरों पर उसकी आज्ञा चलती है।

4. चामर योग:- लग्नेश उच्च का होकर केन्द्र में स्थित हो तथा गुरू उसे देखता हो। मेष लग्न कुण्डली में यदि मंगल दशम भाव में स्थित हो तथा गुरू द्वितीय, चतुर्थ, तथा षष्ठ भाव में हो तो चामर योग बनता है।
फल:- चामर योग वाला जातक उच्च, प्रतिष्ठित, मान्य, विद्धान, वेद शास्त्रों, का ज्ञाता व पूर्णायु होता है। तथा स्व-कार्यो से प्रसिद्धि प्राप्त करता है।
5. लक्ष्मी योग:- भाग्येश यदि स्वराशि, उच्च अथवा मूल त्रिकोण राशि का होकर केन्द्र में स्थित हो, तथा लग्नेश बलवान हो तो, लक्ष्मी योग बनता है। मेष लग्न में गुरू भाग्येश होता है। जो चतुर्थ भाव में बैठ कर लक्ष्मी योग बनाता है। इसके साथ-साथ मंगल लग्न अथवा दशम भाव में होना चाहिये।
फल:- लक्ष्मी योग वाला जातक सम्पन्न धनवान, भाषण कला में प्रवीण, लोगों को अपने पक्ष में करने की युक्ति जानने वाला, गुणी, चतुर, योग्य तथा ख्याति प्राप्त व्यक्ति होता है।

6. राज योग:- मेष लग्न (Mesh Lagn) कुण्डली में सूर्य चन्द्र का संयोग प्रबल राज योग कारक होता है। क्योंकि चन्द्र चतुर्थ का व सूर्य पंचम भाव का अधिपति होने से केन्द्र त्रिकोण का सम्बन्ध स्थापित कर देते है। मंगल सूर्य तथा शनि गुरू की युति भी राज योग कारक मानी गई है। पर मंगल लग्नेश होने के साथ-साथ अष्टमेश भी है, गुरू नवमेश होने के साथ-साथ व्ययेश भी होता है। तथा शनि दशमेश के साथ लाभेश है, अतः इस राजयोग में कुछ न्यूनता आ जाती है। कुछ पण्डितों का यह भी मत है कि मंगल सूर्य की युति भी प्रबल राजयोग कारक होती है, क्योंकि लग्नेश को अष्टमेश होने का दोष नहीं लगता ।

7. अन्य सामान्य योग:-
(1) मेष लग्न (Mesh Lagn) कुण्डली में शुक्र की सर्वोत्तम स्थिति द्वादश भाव में होती है। ऐसा शुक्र अपार धन देता है। तथा सर्वोत्तम जीवन साथी का सुख भी। द्वादश भाव में शुक्र सामान्यतः भोगदाता होता है। मेष लग्न (Mesh Lagn) में द्वादश भाव में शुक्र की उच्च राशि होती है। इस प्रकार शुक्र धनेश व सप्तमेश होकर अपनी उच्च राशि एवं प्रिय भाव में बैठ कर अतुल धन राशि तथा उत्तम स्त्री सुख देगा। द्वितीय भाव में भी शुक्र स्वगृही होने से धन दाता माना गया है।
(2) मंगल का सम्बन्ध डाक्टरी विद्या (सर्जन) से होता है। अतः लग्न द्वितीय भाव एवं पंचम भाव का सम्बन्ध मंगल से हो तो वह व्यक्ति डाक्टर बनता है। चूँकि मेष लग्न में मंगल स्थित हो तो उसकी द्रष्टि द्धितीय तथा पंचम भाव पर पड़ेगी। इस प्रकार मंगल का सम्बन्ध लग्न, द्धितीय व पंचम भाव से हो जाने के कारण जातक एक सफल डाक्टर (सर्जन) होगा। दशम या द्वितिय भाव में मंगल की स्थिति भी डाक्टरी योग बनाती है।
(3) भावार्थ रत्नाकर की पंक्ति “शुक्रस्य षष्ठ संस्थानं योगदं भवतु ध्रुवम्” के अनुसार छठे भाव में भी शुक्र योग कारक होता है। पर मेष लग्न मे यह नियम लागू नहीं होगा। क्योंकि षष्ठ भाव में शुक्र की नीच राशि होगी। धनेश का नीच राशि में होना भी हानि कारक है, तथा सप्तमेश शुक्र का नीच राशिगत होना और अधिक बाधा कारक होगा। इसका कारण यह है कि एक तो शुक्र स्त्री भवन का अधिपति है, दूसरे वह स्त्री सुख का नैसर्गिक कारक ग्रह है। अतः छठे भाव में शुक्र के होने से जातक को गृहस्थ जीवन का सुख बहुत कम मिलेगा, तथा साथी बीमार रहेगा।
(4) षष्ठेश बुध यदि सप्तम भाव में होगा तो, जातक के जीवन-साथी को रोगी बना देगा।
(5) मेष लग्न जातक की कुण्डली में बुध और मंगल का संयोग सिर दर्द तथा मस्तिष्क की शिराओं का रोग देने वाला होगा।
(6) लग्नेश मंगल, धनेश शुक्र एवं भाग्येश गुरू का परस्परिक सम्बन्ध या धनेश, लग्नेश व पंचमेश का सम्बन्ध किसी भी शुभ भाव में हो तो, खूब लाभ देगा।
(7) लग्नेश अष्टमेश मंगल यदि नीच राशि में (चतुर्थ भाव ) हो, और साथ में गुरू न हो तो, चेचक अथवा अन्य घावों जैसे निशान होंगे।
(8) नवम भाव में शुक्र गुरू की युति जातक को कलाकार बनाती है।

कुण्डली में विवाह प्रतिबंधक योग Vivah Pratibandak Yog in Kundli

कुण्डली में विवाह प्रतिबंधक योग Vivah Pratibandak Yog in Kundli

मित्रों इस लेख में जातकों की कुंडली में विवाह प्रतिबंधक योग (vivah pratibandak yog in kundli) के बारे में आपको अति अन्वेषित एवं अनुभव युक्त लेख सम्पादित कर रहा हूँ। शेयर करें व ज्ञान को असीम जनता तक पहुँचायें।

बचपन की सीमा लांघ कर जैसे ही मनुष्य यौवनावस्था में प्रवेश करता है, उसे एक जीवन-साथी की आवश्यकता महसूस होती है। यह प्राकृतिक नियम है, यौवन के आते ही युवा स्त्री अथवा पुरुष में विवाह की इच्छा उत्पन्न होती ही है। आदिमकाल में तो असभ्य मानव अन्य प्राणियों की तरह यौन सम्बंध बनाकर अपनी यौनेच्छा की पूर्ति कर लेता था, किन्तु ज्यों-ज्यों मनुष्य में सामाजिक भावना का उदय हुआ उसने समाज की व्यवस्था को बनाये रखने के लिये ‘विवाह’ vivah जैसी सामाजिक प्रथा को जन्म दिया, और स्वीकार किया।

तभी से समाज की स्वीकृति के बिना स्थापित किया गया यौन सम्बंध अनैतिक समझा जाने लगा। भारत में विवाह को एक पवित्र बंधन माना जाता है, प्रणय-सूत्र में बंधते ही स्त्री और पुरुष दोनों ही कुछ व्यक्तिगत पारिवारिक एवं सामाजिक दायित्वों को समझने लगते हैं। जिनके फलस्वरूप उनमें प्रेम, स्नेह, आत्मसमर्पण एवं कर्त्तव्च्य परायणता से युक्त भावनाओं का जन्म होता है, और इसी कारण उनका विवाहित अथवा गृहस्थ जीवन सुखमय बन पाता है।

सुखमय और प्रेम पूर्ण विवाहित जीवन के लिये यह आवश्यक है कि, स्त्री और पुरुष दोनों ही उत्तम चरित्र से युक्त हों, एक दूसरे को पसंद करते हों, और एक-दूसरे के सुख दुःख में भाग लेते हों, और एक दूसरे को इतना अधिक प्रेम करते हों कि अल्प समय के लिये बिछुड़ने पर बेचैनी का अनुभव करते हों।

अगर स्त्री या पुरुष में से कोई एक अथवा दोनों अपने दायित्वों को नहीं समझते और उनमें उपरोक्त भावनाओं का अभाव हो तो, उनका जीवन कलहपूर्ण होने की संभावना बनी रहती है, या वे विवाहित जीवन में सुख का अभाव या न्यूनता का अनुभव करने लगते हैं, जिसके फलस्वरूप तलाक अथवा आत्महत्या तक की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।

यह सभी तो तब महत्वपूर्ण है, जब जातक की जन्म कुण्डली में विवाह का योग उचित समय में बन रहा हो, इसके विपरीत यदि किसी जातक की जन्म कुण्डली में विवाह का योग ही नहीं बन रहा हो, अर्थात् विवाह प्रतिबंधक योग बना हो तब! ऐसी स्थिति में जातक के साथ-साथ उसके माता-पिता भी चिंता में डूबे रहते हैं।

अनेक उपाय, अनेक यत्न-प्रयत्न करने पर भी विवाह नहीं होता, तब निराश होकर ज्योतिषीयों और कभी-कभी ओझाओं मौलवीयों की शरण में जाते हैं। वस्तुतः विवाह का योग या विवाह का सुख प्रारब्ध का खेल समझा जाता है, जिसकी सूचना हमें जन्म समय की ग्रह स्थिति (जन्म कुण्डली kundli) से मिलती है।

कभी-कभी जन्म कुण्डली kundli में अनेक प्रकार के ग्रहयोग से विवाह प्रतिबंधक योग (vivah pratibandak yog in kundli) का निर्माण हो रहा होता है। इन योगों के साथ-साथ यदि उन विवाह प्रतिबंधक योग बनाने वाले ग्रहों पर किसी शुभ ग्रह की कृपा नहीं होती तो विवाह या विवाह होकर भी वैहिक सुख से जातक हीन रहता है। शुभ ग्रह यदि अपना शुभ प्रभाव डाल रहे हों, तब वह विवाह प्रतिबंधक योगों को भीे भंग कर देते हैं।

अतः एक कुशल विद्वान को विवाह प्रतिबंध करने वाले ग्रहयोंगों के साथ-साथ यह भी विचार करना आवश्यक होता है कि, विवाह प्रतिबंधक योगों पर शुभग्रह अपना प्रभाव किस हद तक डाल रहे हैं? शुभ ग्रह अपना प्रभाव डाल भी रहे हैं अथवा नहीं?

आगे एक जातक की जन्म कुण्डली प्रस्तुत की जा रही है, इस कुण्डली में किस प्रकार विवाह प्रतिबंधक ग्रहों (vivah pratibandak yog in kundli) का प्रभाव है, देखें-
30/10/1982 16:37 Vadodara

vivah pratibandak yog in kundli
vivah pratibandak yog in kundli

ग्रहों के भोगांश
लग्न        11रा    17° 25″ 15′
सूर्य         06रा   13° 06″ 03′
चन्द्रमा    11रा   16°  15″ 58′
मंगल      08रा  05° 26″ 39′
बुध          06रा  00° 22″ 41′
गुरू          06रा  23° 41″ 50′
शुक्र         06रा   11° 55″ 50′
शनि        06रा  03° 00″ 40′
राहु          02रा  13°  33″ 07′

आज इस जातक की आयु लगभग 34 वर्ष हो चुकी है, अभी तक अनेक प्रयत्न कर चुके इसके अभिभावक अनेक उपाय कर, कर के थक चुके हैं, परंतु विवाह नहीं हो रहा। मीन लग्न की इस कुण्डली में सप्तम भाव का स्वामी बुध है, यह ग्रह शुक्र की तुला राशि में परंतु अष्टम भाव में सूर्य से अस्त है, हालांकि सप्तम भाव पर पंचमेश चन्द्रमा की सप्तम पूर्ण दृष्टि का योग है, कुण्डली में लग्न तथा चन्द्र लग्न दोनों से सप्तमेश बुध अस्त तथा अष्टम भाव में विवाह का प्रतिबंध सूचित कर रहा है।vivah pratibandhak yog in navansh kundli

विवाह कारक शुक्र द्वितीय व अष्टम भावाधिपति होकर अष्टम भाव में स्थित है, बेशक यह ग्रह स्वग्रही है परंतु इस स्थान में अशुभ फल ही प्रदान कर रहा है, यह शुक्र यहां सूर्य से अस्त भी है। शुक्र तथा बुध का षष्ठेश सूर्य के साथ अष्टम भाव में अस्त होना निश्चित ही विवाह प्रतिबंधक योग (vivah pratibandak yog in kundli) का निर्माण कर रहा है।

यहां लग्नेश गुरू शुभ ग्रह होने के कारण थोड़ा शुभ फल दे सकता था परंतु यह ग्रह भी सूर्य के सानिध्य में अस्त है। लग्नेश गुरू, सप्तमेश-चतुर्थेश बुध तथा विवाह सुख का कारक ग्रह शुक्र अष्टम भाव में तो हैं ही, साथ-ही अस्त भी हैं।

इन ग्रहों के साथ कुण्डली में भाग्य स्थान के स्वामी मंगल पर शनि की क्रूर दृष्टि भी विवाह प्रतिबंधक योग (vivah pratibandak yog in kundli) में अपना योगदान दे रही है। वर्तमान समय में 13-06-2007 से जातक की शुक्र की महादशा है, इस समय शुक्र की महादशा में राहु की अंतरदशा 13-08-2017 तक रहेगी।

आगे 13 अगस्त 2017 से 13-04-2020 तक गुरू की अंतरदशा होगी, इस अवधि में नैसर्गिक शुभ ग्रह गुरू के शुभ प्रभाव से उपरोक्त अवधि में जातक के लिये शुभ की आशा की जा सकती है। परंतु इस अवधि में भी विवाह संभव होगा या नहीं? पूरी तरह मैं आशा नहीं कर सकता।

गुरू ही एक ग्रह है, जो इस जन्म कुण्डली के अशुभ ग्रहों को अपने शुभ प्रभाव से अनुकूल कर सकता है। परंतु कुण्डली के अधिकांश ग्रह विवाह प्रतिबंधक ग्रहों अथवा योगों (vivah pratibandak yog in kundli) को ही बलवान सूचित कर रहे हैं।

राहु – केतु का मनुष्य पर प्रभाव Rahu Ketu Effects

rahu ketu effects

राहु – केतु का मनुष्य पर प्रभाव Rahu Ketu Effects

राहु एवं केतु (rahu ketu effects) छाया ग्रह कहे जाते हैं। सूर्यादि अन्य ग्रहों के समान इनका स्वतंत्र पिंड और भार नहीं है, उनकी तरह ये दिखलाई भी नहीं देते, अपने क्रान्ति वृत पर भ्रमण करता चन्द्रमा जब भचक्र (पृथ्वी के भ्रमण मार्ग) के उस बिन्दु पर पहुंचता है। जिसे काटकर वह उत्तर की ओर चला जाता है। वह बिन्दु राहु कहलाता है। पाश्चात्य ज्योतिष में इसीलिए इसको ‘‘नॉथ नोड ऑफ द मून’’ कहा जाता है। पौराणिक आख्यानों के अनुसार राहु एक चतुर एवं धूर्त राक्षस था, जो समुद्र मन्थन से निकले अमृत के वितरण के समय, मोहिनी रूपधारी भगवान् विष्णु के छल को तत्काल भॉप कर, स्वार्थ (अमृत पान) सिद्वि हेतु रूप बदल कर देव पंक्ति में बैठ गया।

सूर्य चन्द्र के संकेत से विष्णु ने उसका शिरोच्छेद किया तथापि अमृत पान के कारण उसकी मृत्यु तो नहीं हो सकी। उल्टे उसका शिरो भाग राहु एवं शेष शरीर केतु (rahu ketu effects) कहलाया। इसीलिए यह सूर्य एवं चन्द्र का भंयकर शत्रु बन गया। यह तामसिक एवं महापापी ग्रह हैं। भौतिक साधनों की किसी भी मूल्य पर प्राप्ति लालसा इसका स्वभाव है, जिसके लिए यह निकृष्ट से निकृष्ट साधन अपना सकता हैं। मूलतः यह अविद्या का कारक है जो आत्मा को अन्धकार से आच्छादित कर लेता है। इस के मायावी प्रभाव से जातक की बुद्धि उलझती चली जाती है।

कर्मपाश और गहरा जाते हैं यदि सभी ग्रह राहु-केतु के बीच में आ जाते हैं तो ‘काल सर्प योग’ का जन्म होता है। जिसे विशेष अनिष्ट कारक एवं दुर्भाग्यशाली योग माना गया है। छाया ग्रह होने के बावजूद भी ज्योतिष मर्मज्ञों ने फलित में इनसे सदा सर्तक रहने का संकेत दिया है। जन्मांग में अच्छा होने पर भी इसका चौथाई दोष तो बचा ही रहता है इस अशुभ ग्रह का रंग बिलकुल काला, वस्त्र काले एवं चित्र-विचित्र, जाति शूद्र, आकार दीर्घ और भयानक, स्वभाव तीक्ष्ण, दृष्टि नीच, गुण अत्यधिक तामस, प्रकृति वात प्रधान, तथा अवस्था अति वृद्ध मानी जाती हैं।

रूड़ी एवं मायाचारी विद्या के कारक इस पुरूष ग्रह की दिशा नैऋत्य, भूमि ऊसर। धातु लोहा, मतान्तर से पंचधातु, स्थान सांप के बिल, रोग अस्थि रोग, तथा ऋतुशिशिर कही गयी हैं। हृदय से कपटी, पाखण्डी तथा झूठ बोलने वाले इस ग्रह से पितामह का विशेष विचार किया जाता है।
राहु-केतु (rahu ketu effects) के मायावी प्रभाव से जातक की जड़- बुद्वि उलझती चली जाती है। कर्मपाश और गहरा जाते हैं यदि सभी ग्रह राहु-केतु (rahu ketu effects) के बीच में आ जाते हैं तो ‘काल सर्प योग’ का जन्म होता है। जिसे विशेष अनिष्ट कारक एवं दुर्भाग्यशाली योग माना गया है। छाया ग्रह होने के बावजूद भी ज्योतिषमर्मज्ञों ने फलित में इनसे सदा सर्तक रहने का संकेत दिया है। मिथुन राशि के 15 अंश पर इसे उच्च का मानते हैं।

महर्षि पराशर के अनुसार राहु की उच्चराशि वृष है। इसकी स्वराशि एवं उच्चराशि के बारे में विद्वानों में मतभेद है। कर्क राशि इसी मूल त्रिकोण राशि एवं कुम्भ तथा कन्या स्वगृह कहे गए है। मेष, वृश्चिक, कुम्भ, कन्या, वृष तथा कर्क राशि तथा जन्मांग के तीसरे, छठे, दसवें और ग्याहरवें भाव में इसे बलवान माना गया है। सूर्य, चन्द्र एवं मंगल इसके शत्रु, गुरू सम एवं शेष ग्रह मित्र होते हैं। आद्रा स्वाती एवं शतभिषा नक्षत्रों का अधिपति राहु एक राशि में प्रायः 18 महीने भ्रमण करता है। यह सदा वक्री ही रहता है, अर्थात उल्टा चलता है।

इसका प्रधान देवता काल व अधिदेवता सर्प है। झूठ, कुतर्क, दुष्ट अथवा अन्त्यज स्त्री गमन, नीच जनों का आश्रय, गुप्त और षड़यंत्रकारी कार्य, धोखे-बाजी, विश्वासघात जुआ, अधार्मिकता, चोरी, पशुमैथुन, रिश्वत लेना, भ्रष्टाचार निन्ध्य एवं गुप्त पाप कर्म, दांई ओर से लिखी जाने वाली भाषा जैसे उर्दू, कठोर भाषण, अन्य देश में गमन, विषम स्थान भ्रमण, छत्र, दुर्गा उपासना, राजवैभव, पितामह, आकस्मिक आपत्तियाँ इन का कारक राहु माना गया है।
निर्बल राहु के कारण वायु विकार, अपस्समार (मिर्गी), चेचक, कोढ़, हकलाहट, देहताप, पूराने जटिल रोग, विषविकार, पैरों के रोग, महामारी, सर्पदंश, बालारिष्ट, फौड़े, जेल जाना, स्त्री योग, प्रेत-पिशाच सर्प से भय, शत्रु पीड़ा, ब्राह्यण और क्षत्रिय से विरोध, स्त्री पुत्र पर आपत्ति, संक्रामक एवं कृमिजन्य रोग, आत्महत्या की प्रवृत्ति, बालरोग आदि पीड़ायें सम्भावित हैं।

राहु-केतु (rahu ketu effects) जन्मांग के जिस भाव में बैठते हैं उसके भावेश के अनुसार एवं जिस ग्रह के साथ बैठते हैं, उसके अनुसार विशेष फल प्रदान करते हैं। तथापि 3, 6, 11 भावों के अतिरिक्त प्रत्येक भाव में स्थित राहु प्रायः अनिष्ट फलकारक ही होता है पाप एवं क्रूर ग्रहों के साथ राहु को बहुत भयानक माना गया है अपनी उच्च एवं मित्र राशि व शत्रु ग्रह की दृष्टि से अशुभ फलों में कमी आ जाती है।

राहु-केतु के एकादश भाव में प्रभाव Rahu Ketu Effects

प्रथम भाव में अशुभ और निर्बल राहु- कामुक, स्वार्थी एवं दुष्ट प्रवृति, धूर्तता, गुप्त महत्वकांक्षाओं में निराशा, ईर्ष्या, काम भोग में अतृप्ति पाप पूर्ण विचार, वैवाहिक जीवन में विलम्ब और विषमता, गर्भपात, वातरोग, नशेबाजी आदि देता है। आन्तरिक असन्तोष एवं व्यभिचार भी इसकी देन होती हैं। शनि के साथ स्थित होने से क्षय रोग का भय रहता है।

द्वितीय भावस्थ राहु, वाँणी एवं गले में दोष, रोग, हकलाहट, निन्द्य एवं कटु भाषण, धन, परिवार में अस्थिरता व क्लेश, भ्रष्ट स्त्रियों से धनोपार्जन शिक्षा में बाधा, हीन मनोवृत्ति, प्रदान करता है।

तीसरे भाव में राहु अच्छा फल प्रदान करता है परन्तु कर्ण रोग, भाईयों को कष्ट एवं स्वजनों से कष्ट आदि अशुभ फल भी देता है।

चतुर्थ भाव में राहु माता को कष्टकारक, असन्तोष, कपट, उन्नति, प्रमोशन आदि में बाधा, उदर व्याधि, काल सर्प योग होने से जातक की भिखारी जैसी परिस्थिति में, अपने घर से दूर मृत्यु होने की सम्भावना बनती है। स्त्री जन्मांग में चतुर्थस्थ राहु यदि चन्द्र और शनि या मंगल से युक्त है तो स्वयं एवं माता के चरित्र को संदिग्ध तथा दाम्पत्य विषमता का योग बनाता है। राहु, शनि, चन्द्र और मंगल की युति विष प्रयोग या आत्महत्या कारक भी होती है।

पंचम भाव में या पंचमेश युक्त, पाप सहित या दृष्ट राहु सर्प-श्राप से सन्तान बाधक या कष्ट योग कारक बनाता है। उदर विकार, शूल, गर्भपात, क्रोधी अनियंत्रित तेज मिजाज, चित्त भ्रान्ति, स्त्री कष्ट कारक आदि फल होते हैं।

छठे भाव का दूषित एवं निर्बल राहु, कलह, शत्रु, भय, स्वजन विग्रह, भ्रष्ट आचरण, गुदा रोग, कुष्ट चर्मरोग, कमर दर्द, दांत के रोग, परस्त्री गमन, मामा को कष्ट, पत्थर आदि से चोट या पेड़ से गिरने की सम्भावना व्यक्त करता है। छठे और आठवें भाव में पाप दृष्ट मंगल सहित राहु आत्महत्या की प्रवृत्ति देता है। इस योग में यदि चन्द्रमा भी हो तो उन्माद भय कारक होता है।

सप्तम भाव के पाप युक्त विशेष रूप से शनि युक्त राहु को एक अभिशाप ही समझना चाहिए। दूषित और निर्बल राहु इस भाव में- वैवाहिक जीवन में विषमता, अवैध सम्बन्ध, पत्नी के लिए कष्टकारक एवं स्वयं को भी उनसे कष्ट प्राप्ति, प्रमेह, धातु अथवा वात विकार, हड्डी आदि टूटना, दुर्घटनाएं, विवाह में विलम्ब द्विभार्या योग, सेक्स जीवन में कुण्ठा, द्यूत, मद्यपान प्रवृत्ति, सर्प-दंश या विष से भय आदि अशुभ फलकारक है। पूर्व जन्म में किसी स्त्री को भ्रष्ट करने या अकारण कष्ट देने के कारण ही ऐसे अभिशाप स्वरूप राहु की सप्तम भाव में स्थिति होती हैं।

अष्टमस्थ राहु जातक को उदर बवासीर व गुप्त रोगी, अण्डकोश वृद्वि, क्रोधी, बकवादी, चोर, क्रूरपापकर्मा, व्यभिचारी, विश्वासघाती एवं षड्यंत्रकारी बनाता है। शनि, गुलिक शुक्र के साथ अप्राकृतिक मैथुन प्रवृत्ति देता है (सप्तम भाव में भी यही फल है)। मंगल के साथ दुर्घटना, विष और अग्नि से भय, चेचक, पित्त प्रकोप और उष्ण रोग, आकस्मिक मृत्यु कारक, स्त्री जन्मांग में वैधव्य कारक और विषकन्या व चरित्रहीन योग आदि दुष्ट फल होते हैं।

नवम भाव में राहु पिता के लिए अरिष्ट कारक, पुत्र शोक, झूठ मुखौटा, गुरूद्वेष या गुरूश्राप, बन्धु विरोध या हानि, शूद्र स्त्री से संभोग का सूचक है। भाग्योदय में रूकावटें आती हैं, जिससे मानसिक संताप होता हैं।

एकादश भाव का दूषित राहु, मन्दाग्नि, पेचिश आदि उदर विकार, सुस्ती, सन्तानकष्ट और रिश्वतखोरी, धूर्तता का सूचक है।

बारहवें भाव के राहु Rahu Ketu Effects का प्रभाव बहुत अशुभ माना गया है। दुर्भाग्य, पापचरण, धन नाश, व्यसन, स्त्री पुत्र को कष्ट, असफलतायें, हानि, प्रपंच कपट दुर्बद्वि, नेत्र चर्म रोग, पार्श्व व हृदय में वातजन्य शूल, दीर्घकालीन रोग, मानसिक व यौन दुर्बलता, आत्माहत्या की प्रवृत्ति सूचक है। इस स्थिति में शतचण्डी अनुष्ठान और हवन करना चाहिए। राहु पीड़ा नागश्राप से भी सम्बन्धित रहती है, अतः नागदेव की मूर्ति बनवाकर उसकी विधिवत पूजा करके, दान करना चाहिए। सामान्य जन अधिक न करें, तो राहु मन्त्र का जप- हवन और भार्गव ऋषि प्रणीत लक्ष्मी -हृदय का पाठ करें, साथ ही शनि का व्रत करें, क्योंकि ‘शनिवद् राहुः’ प्रसिद्ध ही है। औषधी स्नान, एवं गूगल की नित्य धूप देना भी लाभप्रद हैं। गोमेद धारण और राहु मंत्र का जाप भी लाभप्रद रहेगा। नित्य देवी पूजन और यथा शक्ति काले पदार्थों का दान करते रहना चाहिए।

नरेंद्र मोदी की कुण्डली में विदेश यात्रायें Modi Kundli & Travelling

Modi Kundli

मित्रों यूं तो सभी प्रधान मंत्रीयों की विदेश यात्रायें होती ही रहती हैं, क्योंकि राजनेता राजनैतिक विदेश यात्रायें करते रहते हैं, अर्थात् विदेश यात्रायें राजनेताओं की कुण्डली में होती ही हैं, परंतु प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की कुण्डली( modi kundli) में कुछ अधिक ही विदेश यात्राओं के योग हैं। इससे पूर्व जो 18 प्रधानमंत्री हुये हैं, उनमें से अधिकांश ने भी अपने कार्यकाल में राजनैतिक कारणों से विदेश यात्रायें की होंगी। परंतु वर्तमान प्रधानमंत्री की विदेश यात्राओं के कारण कुण्डली के कुछ ऐसे ग्रह हैं जो सामान्य से अधिक विदेश यात्रायें करवाने वाला योग बनाते हैं? इस ज्योतिषीय लेख में मैं श्री नरेन्द्र मोदी जी की जन्म कुण्डली (modi kundli) के आधार पर राजनैतिक विदेश यात्राओं का विशलेषण कर रहा हूँ। किन ज्योतिषीय कारणों से वर्तमान प्रधानमंत्री अनेक देशों की यात्रायें करते हैं?

श्री नरेन्द्र मोदी की जन्म तिथि 17 सितम्बर 1950 है, जन्म समय 11 बजे प्रातः तथा जन्म स्थान मेहसाना (गुजरात) है।

श्री नरेन्द्र मोदी की लग्न कुण्डली व नवांश कुण्डली
Narendra Modi Kundli ( Lagn & Navansha)
Modi Kundli

 

यह कुण्डली वृश्चिक लग्न की कुण्डली(modi kundli) है। इस कुण्डली के प्रथम स्थान में चन्द्रमा और मंगल स्थित हैं। चतुर्थ में गुरू, पंचम में राहु की स्थिति है, शनि और शुक्र दशम स्थान में तथा सूर्य, बुध व केतु एकादश स्थान में स्थित हैं।

किसी भी कुण्डली में विदेश यात्राओं का विचार द्वादश स्थान से किया जाता है। विदेश का कारक ग्रह शनि है। आधुनिक आर्थिक सम्पन्नता का कारक ग्रह शुक्र तथा राजनीति का ग्रह सूर्य है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की कुण्डली में विदेश का स्थान (द्वादश) तथा व्यापार स्थान (सप्तम) का स्वामी तथा आधुनिक आर्थिक सम्पन्नता का कारक ग्रह शुक्र विदेश के कारक ग्रह शनि के साथ दशम (कर्म स्थान) में योग (सम्बंध) बना रहे हैं। इसके अतिरिक्त दशम (कर्म) तथा एकादश (आय) स्थान के स्वामी एकादश स्थान में योग सम्बंध बना रहे हैं।

प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की कुण्डली में अनेक विशेषतायें तो हैं ही, एक यह विशेषता भी दिखाई देती है कि, यह देश के लिये विदेशों से आधुनिक आर्थिक सम्पन्नता के लिये व्यापारिक रिश्ते बखूबी मजबूत बना रहे हैं।

इनकी कुण्डली के ग्यारहवें स्थान का स्वामी ग्रह बुध एक व्यापारी ग्रह है, जो राजनीति के कारक ग्रह सूर्य के साथ युति सम्बंध बना रहा है, यह एक सुन्दर व मजबूत योग है, तथा इसका प्रभाव वर्तमान समय में दिखाई भी दे रहा है। यह व्यापारिक सम्बंध चन्द्रमा (भाग्येश) की महादशा में शनि की अंतरदशा (फरवरी 2016 से सितम्बर 2016 तक) और मजबूत होंगे। सितम्बर 2016 से फरवरी 2019 के मध्य चन्द्रमा में बुध का अंतर होगा, इस अवधि में यह रिश्ते चौगुना मजबूती के साथ आगे बढ़ेंगे।

परंतु ध्यान रखना होगा कि इस के बाद फरवरी 2019 से सितम्बर 2019 के मध्य चन्द्रमा की महादशा में केतु का अंतर होगा। इस समय दशमेश सूर्य तथा एकादशेश बुध के साथ में केतु अतिचतुर (कैम्युनिस्ट) ग्रह भी अपनी उपस्थिति दर्शा रहा है। यह ग्रह कहीं कोई बना-बनाया खेल न बिगाड़ दे। इस अवधि में ऐसी विचारधारा व ऐसे देश से सावधान रहने की आवश्यकता होगी।

इस समय के उपरांत सितम्बर 2019 से मई 2021 के मध्य जब चन्द्रमा में शुक्र का अंतर तथा मई 2021 से नवम्बर 2021 तक चन्द्रमा में सूर्य का अंतर रहेगा, इस समय श्री नरेन्द्र मोदी(Narendra Modi) देश को आगे ले जाने के लिये सैकड़ों गुना आर्थिक समृद्धि का सपना पूरा कर सकते हैं।

मेरी राय में 2019 के लोकसभा चुनाव सितम्बर 2019 से पहले नहीं करवाने चाहियें। इस समय में भी केतु (कैम्युनिस्ट) ग्रह अपनी उपस्थिति दिखा रहा है, जिससे सावधान रहना होगा।

सौभाग्य को चमका देती है ~ सूर्य रेखा

Surya Rekha

मनुष्य के हाथ में- सूर्य-रेखा को ‘रविरेखा’ या ‘तेजस्वी-रेखा’ भी कहा जाता हैं, कारण यह भाग्य-रेखा से होने वाले उज्जवल भविष्य या सौभाग्य को ठीक उसी प्रकार चमका देती हैं जिस प्रकार सूर्य अपने प्रखर प्रकाश से रात्रि के अंधकार को दूर करता है। जिस प्रकार से हिम के ढके हुई पर्वत श्रृंखलाओं को विशेष चमकाता हैं। इससे यह न समझ लेना चाहिये कि सूर्य-रेखा के अभाव में हाथ में पड़ी शुभ भाग्य-रेखा का कोई मूल्य ही नहीं होता या उसका प्रभाव ही मध्यम हो जाता हैं समझने के लिए उपर्युक्त शिखर-श्रृंखलाओं को ही ले लीजिये। वे बर्फ से ढंकी रहती हैं बर्फ का गुण हैं चमकना, चाहे रात्रि हो या दिन; उसके स्वाभाविक गुण चमकने में कोई अन्तर नहीं आता- वह सदा एक सा चमकता ही रहता हैं। सूर्य की किरणों से अन्तर केवल इतना ही होता हैं कि वे अपने सहयोग से उसमें एक विशेष प्रकार की चमक उत्पन्न कर देती है। और वह पहले की अपेक्षा और अधिक चमकने लग जाता है। यही बात रेखाओं के सम्बन्ध में भी है। यदि भाग्यरेखा के साथ सूर्यरेखा भी अधिक बलवान् होकर पड़ी हो तो वह सोने में सुगन्ध का काम करती हैं, अर्थात् यों कहिये कि एक राजा को चक्रवर्ती समा्रट बनाने का काम करती है, यही भाव है।

Surya Rekha
Surya Rekha

यदि किसी के हाथ में भाग्य-रेखा निर्बल हो या उसका सर्वथा ही अभाव हो तो सुन्दर, छोटी सी सूर्य-रेखा के प्रभाव से वह व्यक्ति (स्त्री या पुरूष) वैसा प्रभावशाली न हो, फिर भी रजोगुणी अवश्य होगा। ऐसे व्यक्ति में सदैव धनाढय होने की, जनता में सम्मान पाने की या कोई बड़ा नेता बनने की अभिलाषाएँ बनी रहती हैं। वह दस्तकार न होकर भी दस्तकारों से प्रेम रखता हैं किसी विषय में पूर्ण ज्ञान रखते हुए भी वह अपनी योग्यता दूसरों पर प्रकट नहीं कर पाता। साधारण शुभ भाग्यरेखा के साथ भी सूर्य-रेखा अधिक उपयोगी समझी जाती है। इसमें संदेह नहीं कि जिस समय यह रेखा (सूर्य-रेखा) मनुष्य के हाथ में आरम्भ होती है उसी समय से उसके भाग्य में कुछ विशेष सुधार होने लग जाता है। यह रेखा निम्नलिखित सात स्थानों से आरम्भ होती है-

(1) मणिबन्ध या उसके समीप से।
(2) चन्द्रक्षेत्र से आरम्भ होकर सूर्यागुंलि की ओर
(3) जीवन-रेखा से।
(4) भाग्य-रेखा से प्रारम्भ होती है।
(5) मंगलक्षेत्र या हथेली के मध्य-भाग से।
(6) मस्तक-रेखा को स्पर्शकर
(7) हृदय-रेखा को स्पर्श करती (सूर्य के स्थान पर जाती है)।

 

इन सात स्थानों से प्रारम्भ होने वाली सूर्य-रेखा हमें समय समय पर हमारी दुर्घटनाओं या हमारे भाग्यसम्बन्धी अनेक अनेक जटिल प्रश्नों को हल करती है। यहां पृथक्-पृथक् सातों प्रकारों का विस्तृत विचार किया जा रहा है।

(1) यदि सूर्य-रेखा मणिबन्ध या उसके समीप से आरम्भ होकर भाग्य-रेखा के निकट समानान्तर अपने स्थान को जा रही हो तो यह सबसे उत्तम मानी गयी है। ऐसी रेखावाला व्यक्ति स्त्री या पुरूष प्रतिभा ओर भाग्य का मेल होने से, जिस काम को हाथ लगाता या आरंभ करता हैं उसमें पूर्णतः सफल होता है।

(2) इसके विपरीत यदि सूर्य-रेखा चन्द्रक्षेत्र से आरम्भ होती हो तो इसमें संदेह नहीं कि उसका भाग्य चमकेगा, पर उसकी यह उन्नति निजी परिश्रम द्वारा न होकर दूसरों की इच्छा ओर सहायता पर अधिक निर्भर करती हैं संभव है, उसे उसके मित्र सहायता करें, या इस सम्बन्ध में अपनी कोई शुभ सम्मति दें जिससे वह उन्नति के पथ पर अग्रसर हो।
चन्द्रक्षेत्र से आरम्भ होकर अनामिकांगुलि तक पहुंचने वाली गहरी सूर्यरेखा के सम्बन्ध में यह बात अवश्य ध्यान में रखने की है। ऐसे व्यक्ति का जीवन अनेक घटनाओं से भरा और संदेह पूर्ण होता है। उसमें बहुुत से परिवर्तन भी होते हें किन्तु यदि रेखा चन्द्रस्थान से निकलकर भाग्य-रेखा के समानान्तर जा रही हो तो भविष्य सुखमय हो सकता है। यदि प्रेम बाधक न हो, और विचारों में दृढ़ता होने के साथ ही साथ मस्तकरेखा भी अपना फल शुभ दे रही हो। निश्चय ही ऐसा व्यक्ति (स्त्री या पुरूष) तेजस्वी और प्रसन्नचित्त होता है।, फिर भी उसमें एक बड़ा भारी दोष यह पाया जाता है कि उसके विचार कभी स्थिर नहीं रहते। सर्वसारण स्त्री या पुरूषों का उस पर अधिक प्रभाव पड़ता है। और अनायास ही वह अपने पूर्वनिश्चित विचारों को बदल देता हैं वह यश पाने की इच्छा करता है, किन्तु अपने संकल्प पर दृढ़ न रह सकने के कारण अपने प्रयत्नों अधिक सफल नहीं होता।

(3) जीवन-रेखा से आरम्भ होने वाली स्पष्ट सूर्य-रेखा भविष्य में उन्नति और यश बढाने वाली मानी गयी हैं किन्तु यह उन्नति उसके निजी परिश्रम और योग्यता से ही होती है। एक व्यावसायिक हाथ को छोड़कर शेष सभी हाथों में इसके प्रभाव से मनुष्य अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी कला में पूरी उन्नति कर सकता है। यह रेखा उपर्युक्त दशा में स्त्री या पुरूष के शीघ्र ग्राही होने का भी एक अचूक प्रमाण है ऐसे व्यक्ति सुन्दरता के पुजारी होते हैं ओर अपने जीवन का एक बड़ा भाग सौन्दर्य-उपासना में ही बिताते हैं यही कारण हैं कि वे उन स्त्री-पुरूषों की अपेक्षा, जिनकी सूर्य-रेखा स्वयं भाग्यरेखा से आरंभ हो रही हो, जीवन का अधिक उपभोग नहीं कर पाते।

(4) यदि यह रेखा भाग्य-रेखा से आरम्भ होती हो तो भाग्यरेखा के गुणों में वृद्धिकर उसकी शक्ति दूगनी कर देती है, प्रायः देखा गया है कि यह रेखा जिस स्थान से भाग्य-रेखा से ऊपर उठती है वहीं से किसी विशेष उत्कर्ष या उन्नति का आरम्भ होता है। रेखा जितनी ही अधिक स्पष्ट और सुन्दर होगी, उन्नति का क्षेत्र उतना ही विस्तृत और उन्नति भी अधिक होगी। ऐसी सूर्य-रेखा प्रायः ऐसे हाथों में भी दिख पड़ती है जो चित्रकार होना तो दूर रहा, एक सीधी रेखा भी नहीं खीच सकते। वे रंगों के अनुभवी भी इतने होते हैं कि पीले और गुलाबी रंग का अन्तर जानना भी उनकी शक्ति से बाहर की बात होती हैं अतः स्पष्ट है कि ऐसी रेखा वाला व्यक्ति कुशल कलाकार या दस्तकार नहीं हो सकता। हाँ, वह सुन्दरता का पुजारी और प्राकृतिक दृश्यों का प्रेमी अवश्य होता हैं दूसरे शब्दों में सुन्दरता तथा प्रकृति से प्रेम करना उनका एक स्वाभाविक गुण ही हो जाता हैं।

(5) मंगलक्षेत्र या हथेली के मध्यभाग से प्रारभ होने वाली सूर्य-रेखा अनेक अपत्ति और बाधाओं के बाद उन्नति सूचित करती है इसका सहायक मंगलक्षेत्र होता है यदि किसी के हाथ का मंगलक्षेत्र उच्च हो तो वह बहुत उन्नति करता है किन्तु मंगलकृत कष्ट भोग लेने के पश्चात् ही वह अपनी उन्नति कर पाता है।

(6) यदि यह रेखा मस्तकरेखा से आरंभ होती हो और स्पष्ट हो तो वह मानव के जीवन के मध्यकाल में (करीब 35 वें वर्ष) तक उन्नति करता है उसकी यह उन्नति जातीय योग्यता और मस्तिष्क शक्ति के अुनसार होती है।

(7) हृदय-रेखा से आरम्भ होने वाली सूर्य-रेखा जीवन के उत्तरकाल में मानव की उन्नति करती है। यह अवस्था लगभग 56 वर्ष की होगी, किन्तु एतदर्थ हृदयरेखा से ऊपर सूर्यरेखा का स्पष्ट होना आवश्यक है। ऐसी स्थिति में उस स्त्री या पुरूष के जीवन का चैथा चरण सुखमय या कम से कम निरापदा बीतता है। इसके विपरीत यदि हृदय-रेखा से ऊपर सूर्य-रेखा का सर्वथा अभाव हो या वह छोटे-छोटे टुकडों से बनी या टूटी-फूटी हो तो जीवन का चैथाकाल चिन्ताओं से भरा और अन्धकारमय व्यतीत होगा, विशेषतः तब जब कि भाग्य रेखा निराशाजनक हो।

यदि सूर्य-रेखा और भाग्यरेखा दोनों ही शुभफल देने वाली होकर एक दूसरी के समानान्तर जा रही हों, साथ ही मस्तक-रेखा भी स्पष्ट और सीधी हो तो वह धनाढ़य और ऐश्वर्यपूर्ण होने का सबसे बड़ा लक्षण है। ऐसे योगवाला व्यक्ति (स्त्री या पुरूष) बुद्धिमान् और दूरदर्शी होने के कारण जिस काम को हाथ लगाता हैं उसी में सफल होता है।

सूर्य ग्रह शांति के लिए सूर्य यंत्र (Surya Yantra Gold Plated) हमारे संस्थान से प्राप्त करें।

यदि हाथ में सूर्य की अंगुली पहली अंगुली तर्जनी से अधिक लम्बी और बीच की मध्यमांगुलि के बराबर हो, साथ ही सूर्य-रेखा से अधिक बलवान् हो तो उस मनुष्य की प्रवृत्ति जुआ खेलने की ओर अधिक पायी जाती है, किन्तु उसमें धन या गुणों का अभाव नहीं होता। हाँ, कभी-कभी यदि मस्तक-रेखा नीचे की ओर झुकी हो तो उसका और भी अधिक बुरा प्रभाव पड़ता हैं जैसे-सदा सट्टा, लाटरी या जुआ खेलना, शर्त लगाना आदि।

यदि सूर्य-रेखा सूर्यक्षेत्र की ओर न जाकर शनि की अंगुली की ओर जा रही हो तो उस व्यक्ति की उन्नति या सफलता शोक और कठिनाइयों से मिली होती हैं। ऐसे व्यक्ति धनवान और उन्नतिशील होकर भी प्रायः सुखी नहीं रह पाते। यदि यह रेखा शनिक्षेत्र को काट रही हो या अपनी कोई शाखा गुरूक्षेत्र की ओर भेज रही हो तो उसकी उन्नति या सफलता कोई शासन-अधिकार अथवा राज्य द्वारा उच्च पद्वी पाने के रूप में होगी। परन्तु रेखा का यह लक्षण किसी भी दशा में इतना प्रभाव पूर्ण नहीं हो सकता जितना भाग्य-रेखा के गुरू अंगुली की ओर जाने के सम्बन्ध में हो सकता है।

प्रायः देखा गया है कि छोटी-छोटी एक या एक से अधिक रेखाएँ एक दूसरी के समानान्तर में सूर्यक्षेत्र पर दौड़ती पायी जाती हैं। ऐसे योगवाले व्यक्ति के विचार बिखरे होते हैं वह कभी कुछ करना चाहता है तो कभी कुछ। अतएव वह व्यापार, चित्रकारी या कला-कौशल किसी भी विशेष काम में कभी उन्नति नहीं कर पाता। सूर्यरेखा के साथ कुछ ऐसे चिन्ह भी पाये जाते हैं जो भाग्योन्नति में बाधा डालते हैं उदाहरणार्थ-हथेली यदि अधिक गहरी हो तो वह अशुभ लक्षण हैं।

~ Dr. R. B. Dhawan (Guruji), Famous Astrologer